इंदौर न्यूज़ (Indore News) बड़ी खबर मध्‍यप्रदेश व्‍यापार

फार्मा हब के रूप में विकसित हो रहा इंदौर: मनसुख मंडाविया

-केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने किया मप्र की पहली केंद्रीय औषधि परीक्षण प्रयोगशाला का उद्घाटन
-वायरल लोड जांच के लिए देश के पहले कोबाल्ट 5800 सिस्टम का एम्स भोपाल में हुआ वर्चुअल लोकार्पण

इंदौर (Indore)। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Union Health Minister Mansukh Mandaviya) ने कहा कि इंदौर ((Indore)) फार्मास्यूटिकल हब (pharmaceutical hub) के रूप में विकसित हो रहा है। यहां पर मेडिकल डिवाइस पार्क (Medical Device Park) का भी निर्माण हो रहा है। यह प्रयोगशाला इन सभी चीजों के लिए बहु उपयोगी रहेगी।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया रविवार को इंदौर के जीपीओ चौराहे पर केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) उप क्षेत्रीय कार्यालय और केंद्रीय औषधि परीक्षण प्रयोगशाला के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। यह देश की आठवीं और प्रदेश की पहली केंद्रीय औषधि परीक्षण प्रयोगशाला है। इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री राजेंद्र शुक्ल, सांसद शंकर लालवानी, ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया राजीव सिंह रघुवंशी, एम्स भोपाल के सीईओ अजय सिंह एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।


केन्द्रीय मंत्री मंडाविया ने कहा कि यह प्रयोगशाला देश की आठवीं और प्रदेश की पहली केंद्रीय औषधि परीक्षण प्रयोगशाला है। इस प्रयोगशाला के माध्यम से निर्मित की जा रही दवाइयों का मानक सुनिश्चित करने में आसानी होगी। अब मध्यप्रदेश की फार्मास्यूटिकल कंपनियों को भारत सरकार के अप्रूवल के लिए दिल्ली नहीं आना पड़ेगा बल्कि वे इंदौर से ही अपनी एप्लीकेशन जमा कर सकेंगे।

इस अवसर पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने वर्चुअल रूप से एम्स भोपाल में पांच आधुनिक सुविधाओं का लोकार्पण किया। जिन सुविधाओं का लोकार्पण किया गया, उनमें 2.7 करोड रुपये की लागत से बना डेक्सा स्कैन, जिससे हड्डियों का घनित्व नापा जा सकेगा, 1.67 करोड़ रुपये की लागत से बना कोबाल्ट 5800 सिस्टम, जिससे वायरल लोड को जांच सकेंगे। दो करोड़ की लागत से बना ट्रॉमा और इमरजेंसी ऑपरेशन थियेटर कंपलेक्स, ड्रोन स्टेशन, जिससे आदिवासी क्षेत्रों तक दवाइयां पहुंचाई जा सकेगी, दो करोड़ रुपये की लागत से बना प्राइवेट वार्ड कॉम्प्लेक्स, जिसमें 16 कमरे हैं, जिनके माध्यम से आम जनता तक सारी स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाई जा सकेंगी और चार करोड़ की लागत से बना जिम कॉम्प्लेक्स शामिल हैं।

मंडाविया ने कहा कि आज एम्स में भी पांच प्रकल्पों का लोकार्पण किया गया। विकसित भारत संकल्प यात्रा के दौरान हम खेतों में ड्रोन का उपयोग तो देख ही रहे हैं, लेकिन अब स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी ड्रोन का प्रयोग किया जा रहा है। यह स्वास्थ्य एवं कृषि क्षेत्र के लिए बहुत बड़ा परिवर्तन है। ड्रोन के माध्यम से हम न केवल दूरस्थ क्षेत्रों तक दवाइयां पहुंच सकेंगे, लेकिन आपातकालीन स्थिति में रक्त पहुंचना, ब्लड सैंपल लेना एवं ऑर्गन ट्रांसपोर्टेशन भी किया जा सकेगा। यह सब दर्शा रहा है कि मध्य प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं में बढ़ोतरी हो रही है।

उन्होंने कहा कि आज ही उज्जैन से प्रदेश के लिए 178 करोड़ रुपये की लागत के 174 अलग-अलग स्वास्थ्य सुविधाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास हुआ है। प्रदेश में स्वास्थ्य का क्षेत्र तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है। जनकल्याण के लिए आने वाले समय में इस क्षेत्र में अन्य तरह की सुविधाएं एवं निवेश किए जाएंगे।

उप मुख्यमंत्री राजेंद्र शुक्ल ने कहा कि प्रदेश में फार्मास्यूटिकल कंपनियों को बढ़ावा देने के लिए प्रॉपर इकोसिस्टम का निर्माण सही शब्दों में आज हुआ है। यह प्रयोगशाला न केवल जनकल्याण के लिए लाभकारी है बल्कि फार्मा कंपनियों की स्थापना में भी यह सहायक रहेगी। केंद्र सरकार एवं मध्यप्रदेश शासन की अगुवाई में हम स्वास्थ्य क्षेत्र में नई-नई उपलब्धियां प्राप्त कर रहे हैं। आज प्रदेश के हर जिला अस्पताल में सीटी स्कैन से लेकर एमआरआई तक की सुविधा उपलब्ध है। स्वास्थ्य क्षेत्र में नई क्रांति आ रही है।

Share:

Next Post

स्वच्छ सर्वेक्षण 2023: ओडीएफ और स्टार रेटिंग में मध्यप्रदेश ने फिर फहराया परचम

Mon Jan 8 , 2024
– इंदौर, भोपाल, महू कैंट, अमरकंटक, नौरोजाबाद एवं बुधनी को राष्ट्रीय स्तर पर किया जाएगा सम्मानित भोपाल (Bhopal)। केन्द्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 के परिणामों (Swachh Survekshan 2023 results) की अधिकृत घोषणा (official announcement) की गई है। इसके अनुसार राज्य के इंदौर (Indore), भोपाल (Bhopal), महू कैंट, अमरकंटक, नौरोजाबाद एवं […]