भोपाल न्यूज़ (Bhopal News)

मप्र में निवेश करें, हम हर सुविधाएं देंगे

  • पुणे में सीएम शिवराज ने मप्र में इंडस्ट्री एवं इन्वेस्टमेंट को लेकर उद्योगपतियों से की मुलाकात, बताया रोडमैप
  • उद्योगपतियों को ग्लोबल इन्वेस्टर समिट में शामिल होने किया आमंत्रित
  • इन्वेस्ट के लिए सबसे अच्छी जगह मप्र

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को महाराष्ट्र में थे। उन्होंने इंटरेक्टिव सेशन ऑन इन्वेस्टमेंट अपाच्र्युनिटी इन मध्यप्रदेश कार्यक्रम को संबोधित किया। यह कार्यक्रम पुणे में हुआ था। इस दौरान मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश में निवेश को लेकर उद्योगपतियों के साथ मुलाकात की और जनवरी में इंदौर में होने वाले ग्लोबल इन्वेस्टर समिटि में शामिल होने का भी न्यौता दिया। मुख्यमंत्री ने वर्ष 2016-27 तक प्रदेश की अर्थव्यवस्था को 550 बिलियन डालर बनाने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए मुख्यमंत्री ने रोडमैप भी बताया। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि मध्यप्रदेश शांति का टापू है। प्रत्येक उद्यम के लिए यहां स्किल मैन पावर की उपलब्धता है। आत्मनिर्भर भारत के लिए आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोड मैप हमने बनाया है। हमने तय किया है कि 550 बिलियन डॉलर की इकोनॉमी मध्यप्रदेश को बनाएंगे। चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में हमारे मुख्य फोकस क्षेत्र हैं, इंफ्रा, स्वास्थ्य, शिक्षा, सुशासन और अर्थव्यवस्था एवं रोजगार। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश इन्वेस्टमेंट के लिए बहुत उत्तम प्रदेश है। ई व्हीकल भविष्य की जरूरत है इसलिए हमने मध्यप्रदेश में ईवी पार्क बनाने का फैसला किया है।

टॉप-5 राज्यों में मध्यप्रदेश का नाम
सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश की आर्थिक विकास दर देश में सबसे ज्यादा रही है। भारत के सकल घरेलू उत्पाद में सबसे ज्यादा योगदान करने वाले टॉप के 5 राज्यों में मध्यप्रदेश का नाम है। यहां की अर्थव्यवस्था में 8 फीसदी योगदान मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का है। इसे अगले एक दशक में बढ़ाकर 15 फीसदी करने का हमारा लक्ष्य है। इसके साथ ही पूंजीगत व्यय को बढ़ाकर भी 43 हजार करोड़ रुपए किया गया है।

टेक्सटाइल इंडस्ट्री पर सरकार का फोकस
सीएम ने टेक्सटाइल इंडस्ट्री के विकास की संभावनाओं पर भी बात कही। उन्होंने कहा कि एमपी का कपास उत्पादन में देशभर में 5वां स्थान है। प्रदेश में स्किल्ड मैनपावर की प्रचुरता है। पीएम मित्रा स्कीम के अंतर्गत टेक्सटाइल पार्क स्वीकृत करने के लिए प्रस्ताव भेजे गए हैं। इस क्षेत्र में यहां 3513 करोड़ का इन्वेस्ट किया जा रहा है। मध्यप्रदेश चंदेरी सिल्क जैसे पारंपरिक वस्त्रों का गृह राज्य है।


देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनेगा
इंदौर-भोपाल के बीच एक ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट की स्थापना की जा रही हैं, जो देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनेगा। एक स्टेट से दूसरे स्टेट को बेहतर तरीके से कनेक्ट करने के लिए अटल और नर्मदा एक्सप्रेस वे भी बना रहे हैं। सीएम ने कहा कि पीएम मित्रा स्कीम के अंतर्गत प्रदेश को टेक्सटाइल पार्क स्वीकृत करने के लिए हमने 4 प्रस्ताव वस्त्र मंत्रालय को प्रेषित किये हैं। प्रदेश में टेक्सटाइल क्षेत्र में सबसे अधिक 3,513 करोड़ का निवेश किया जा रहा है। मध्य प्रदेश चंदेरी सिल्क जैसे पारंपरिक वस्त्रों का गृह राज्य है, जिसे मिलान फैशन वीक और पेरिस हॉट कुटूर-2021 में व्यापक रूप से प्रदर्शित किया गया।

उद्योग के कलस्टर डेवलप करेंगे
सीएम ने कहा कि मध्यप्रदेश में अब दो हाईवे अटल और नर्मदा एक्सप्रेस-वे बना रहे हैं। ये हाईवे नहीं होंगे, बल्कि दोनों ओर उद्योग के कलस्टर और टाउनशिप डेवलप करेंगे। प्रदेश में फार्मास्युटिकल सेक्टर के लिए सकारात्मक एवं कंड्यूसिव इकोसिस्टम उपलब्ध है। उज्जैन में मेडिकल डिवाइस पार्क की स्थापना के लिए भारत सरकार ने मंजूरी दी है। विश्व की कई बड़ी कंपनियों की इकाइयां प्रदेश में संचालित हैं। प्रदेश का कपास उत्पादन में देश में पांचवां स्थान है। प्रदेश में स्किल्ड मैनपावर की प्रचुरता है। टेक्सटाइल क्षेत्र में सबसे अधिक 3,513 करोड़ रु. का निवेश किया जा रहा है। चंदेरी सिल्क जैसे पारंपरिक वस्त्रों का गृह राज्य मप्र है। जिसे मिलान फैशन वीक और पेरिस हॉट कुटूर-2021 में व्यापक रूप से प्रदर्शित किया गया।

सवा लाख एकड़ जमीन हमारे पास
मुख्यमंत्री ने बताया कि लैंडबैंक हमारे पास तैयार है। 1 लाख 22 हजार एकड़ जमीन अलग-अलग हिस्सों में चिन्हित है। अगर चाहिए तो आपको 1 महीने के अंदर हम दे सकते हैं। इसे क्लिक करके आप देख सकते हैं कि कहां-कहां हमारे पास लैंड के पीसेज है। आप मध्यप्रदेश आकर घूमें, पसंद आए तो बाद में देख लें। कंपरेटिवली अगर देखें तो मप्र में मुंबई-पुणे के मुकाबले जमीन सस्ती उपलब्ध है। पीथमपुर के निकट मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक्स पार्क की स्थापना की जा रही है। सीएम ने कहा कि प्रदेश में फार्मास्युटिकल सेक्टर के लिए सकारात्मक एवं कंड्यूसिव इकोसिस्टम उपलब्ध है। उज्जैन में मेडिकल डिवाइस पार्क की स्थापना के लिए भारत सरकार द्वारा मंजूरी मिल गई है। मध्यप्रदेश के शरबती गेंहू का विश्व भर में निर्यात किया जा रहा है। विश्व की कई बड़ी कंपनियों की इकाइयां प्रदेश में संचालित हैं। उन्होंने कहा कि पांच महीनों में ही 2021-22 में इसी अवधि की तुलना में गेहूं की दोगुनी मात्रा का निर्यात हो रहा है। हमने अप्रैल- अगस्त 2022-23 के दौरान 43.50 लाख मीट्रिक टन (एलएमटी) का निर्यात किया, जो पिछले साल के इसी महीने की तुलना में 116.7 प्रतिशत अधिक था। प्रदेश का कपास उत्पादन में देश में पांचवां स्थान है। प्रदेश में स्किल्ड मैनपावर की प्रचुरता है।

Share:

Next Post

सबके लिए आवास का सपना मप्र में हो रहा है साकार

Sat Oct 22 , 2022
प्रधानमंत्री आज कराएंगे 4.51 लाख हितग्राहियों को गृह प्रवेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गृह-प्रवेश के राज्य स्तरीय कार्यक्रम में सतना से शामिल होंगे भोपाल। प्रदेश के साढ़े चार लाख परिवारों का दीपावली के पहले अपने आवास का सपना साकार होने जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी धनतेरस के दिन शनिवार को प्रधानमंत्री आवास (ग्रामीण) योजना […]