विदेश व्‍यापार

मंदी की चपेट में Japan-Britain, इन देशों में भी बढ़ी खतरा

नई दिल्ली (New Delhi)। दुनिया पर क्या एक बार फिर से मंदी (Global Recession) का खतरा मंडरा रहा है? ये सवाल इसलिए उठने लगा है क्योंकि हाल ही में जापान और ब्रिटेन ( Japan and Britain) जैसे बड़ी इकोनॉमी (Big economies) मंदी (fell into recession) में आ गई हैं. जीडीपी में गिरावट (GDP decline) की वजह से Japan को बड़ा नुकसान हुआ है और उससे दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था का तमगा तक छिन गया है. लेकिन UK-Japan को बड़ी इकोनॉमी होने के चलते चर्चा में है, जबकि दुनिया के अन्य 18 देशों में भी मंदी का खतरा बढ़ गया है।


जापान-ब्रिटेन की मंदी सुर्खियों में
दुनिया के कई हिस्सों पर तकनीकी मंदी का डर मंडरा रहा है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, जापान और ब्रिटेन सितंबर-दिसंबर तिमाही 2023 के दौरान तकनीकी मंदी में आ गए, क्योंकि दोनों ही देशों की GDP में लगातार दो तिमाही गिरावट जारी रही. ये दोनों देश बड़ी इकोनॉमी हैं, तो इनमें मंदी सुर्खियों में है, लेकिन दुनिया के कई ऐसे हिस्से भी हैं, जहां मंदी ने आहट दे दी है. इनमें से दो देश तो जापान और ब्रिटेन की तरह ही मंदी में जा चुके हैं।

आयरलैंड और फिनलैंड लिस्ट में आए
Recession में आए ब्रिटेन और जापान के साथ ही आयरलैंड (Ireland) और फिनलैंड (Finland) भी चौथी तिमाही के दौरान मंदी की जद में आ गए हैं. एक ओर जहां सितंबर तिमाही में जापान की इकोनॉमी (Japan GDP) में 3.3 फीसदी की गिरावट आई थी, तो वहीं दिसंबर तिमाही में गिरावट की दर 0.4 फीसदी रही. इसके अलावा UK GDP सितंबर तिमाही में 0.1 फीसदी और दिसंबर तिमाही में 0.3 फीसदी तक सिकुड़ी है. वहीं इस लिस्ट में जुड़े नए नामों के आंकड़े देखें, तो आयरलैंड ने तिमाही-दर-तिमाही सकल घरेलू उत्पाद में Q3 में 0.7 फीसदी और Q4 में 1.9 फीसदी की गिरावट दर्ज की है. वहीं दूसरी ओर फिनलैंड की जीडीपी में इसी अवधि में क्रमश: 0.4 फीसदी और 0.9 फीसदी की गिरावट आई।

इन 10 देशों में मंदी की आहट
ये तो बात हुई उन चार देशों की जो लगातार दो तिमाहियों में जीडीपी में गिरावट झेलने के बाद मंदी में चले गए हैं. लेकिन दुनिया के कई देशों ने अब तक चौथी तिमाही के नतीजे घोषित नहीं किए हैं, इसलिए ये कहना जल्दबाजी होगा कि सिर्फ जापान-ब्रिटेन और आयरलैंड-फिनलैंड ही मंदी में हैं. दरअसल, जुलाई-सितंबर तिमाही यानी तीसरी तिमाही के दौरान अपनी इकोनॉमी के नतीजे घोषित करने वाले देशों की लिस्ट में 10 ऐसे थे, जिनकी GDP में गिरावट दर्ज की गई थी और मंदी की आहट इन देशों में सुनाई देने लगी है. इस लिस्ट में जो नाम शामिल हैं, उनपर एक नजर डालते हैं…

डेनमार्क (Denmark)
लक्जमबर्ग (Luxembourg)
मोल्दोवा (Moldova)
एस्टोनिया (Estonia)
इक्वाडोर (Ecuador)
बहरीन (Bahrain)
आइसलैंड (Iceland)
दक्षिण अफ्रीका (South Africa)
कनाडा (Canada)
न्यूजीलैंड (New Zeland)

इन 6 देशों की जीडीपी में पहली बार गिरावट
ऊपर बताए गए देशों के अलावा, जिन देशों ने चौथी तिमाही के जीडीपी नतीजे जारी कर दिए हैं, उनमें से 6 ने दिसंबर तिमाही में पहली बार GDP Fall की सूचना दी है. ये देश मलेशिया (Malaysia), थाईलैंड (Thailand), रोमानिया (Romania), लिथुआनिया (Lithuania), जर्मनी (Germany) और कोलंबिया (Colombia) हैं. इनमें शामिल एक बड़ी अर्थव्यवस्था जर्मनी की जीडीपी (Germany GDP) ने 0.3 फीसदी की गिरावट देखी है।

इंडियन इकोनॉमी में तेजी जारी
एक ओर जहां जापान-ब्रिटेन और जर्मनी जैसी बड़ी अर्थव्यस्थाओं की हालत खराब हो रही है. तो वहीं दूसरी ओर भारत की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में तेजी जारी है. वर्ल्ड बैंक (World Bank) से लेकर आईएमएफ (IMF) ने इसकी सराहना की है और इसे दुनिया में सबसे तेजी से आगे बढ़ती इकोनॉमी माना है. हाल ही में भारत के बड़ी-बड़े रेटिंग एजेंसियों ने भारत के 2027 दुनिया की तीसरी बड़ी इकोनॉमी बनने का अनुमान जताया है. हालांकि, वैश्विक हालातों के भारत पर असर से भी इनकार नहीं किया जा सकता है. ग्लोबलाइजेशन के युग में कोई भी अछूता नहीं है. अगर बाहरी परिस्थितियां प्रतिकूल रहती हैं, तो भारत पर भी इसका असर दिखाई दे सकता है।

Share:

Next Post

सऊदी जाने वाले भारतीय पर्यटकों को अब 96 घंटे का मुफ्त वीजा, पांच साल के लिए भी खास ऑफर

Fri Feb 23 , 2024
दुबई (Dubai)। सऊदी अरब (Saudi Arab) जाने वाले भारतीय पर्यटकों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है। राजधानी रियाद (Capital Riyadh) का लक्ष्य 2030 तक 7.5 मिलियन भारतीय पर्यटकों (7.5 million Indian tourists) को आकर्षित करना है। सऊदी के स्थापना दिवस पर शीर्ष अधिकारी ने कहा कि पिछले साल सऊदी अरब (Saudi Arab) आने वाले भारतीयों […]