बड़ी खबर व्‍यापार

30,000 करोड़ रुपये के सरकारी बांड नीलाम कर रही मोदी सरकार, वित्त मंत्रालय ने की घोषणा

नई दिल्ली (New Delhi)। मोदी सरकार (Modi government) आज 30,000 करोड़ रुपये (worth Rs 30,000 crore) के सरकारी बांड नीलाम (Government bond auction) कर रही है। वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने सोमवार को तीन अलग-अलग श्रेणियों में 30,000 करोड़ रुपये (worth Rs 30,000 crore) के सरकारी बांड की बिक्री की घोषणा की। इसे 12 अप्रैल यानी आज आरबीआई के मुंबई कार्यालय द्वारा नीलामी के लिए रखा गया है।


पहला: बांड में प्राइस बेस्ड ऑक्शन प्राइस मेथड के माध्यम से 11,000 करोड़ रुपये की नोटिफाइड राशि के लिए 7.32 प्रतिशत गवर्नमेंट सिक्युरिटी 2030 शामिल है।

दूसरा: मल्टीपल प्राइस मेथड का उपयोग करके यील्ड बेस्ड नीलामी के माध्यम से 10,000 करोड़ रुपये की न्यू गवर्नमेंट सिक्यूरिटी 2039

तीसरा: मल्टीपल प्राइस मेथड का उपयोग करके प्राइस बेस्ड ऑक्शन के माध्यम से 9,000 करोड़ रुपये की राशि के लिए 7.30 प्रतिशत गवर्नमेंट सिक्यूरिटी 2053

सरकार के पास इनमें से हर सिक्युरिटी के बदले 2,000 करोड़ रुपये तक की अतिरिक्त सब्सक्रिप्शन बरकरार रखने का विकल्प होगा। सरकारी प्रतिभूतियों की नीलामी में नॉन कंपटेटिव बिडिंग सुविधा की योजना के अनुसार प्रतिभूतियों की बिक्री की नोटिफाइड राशि का 5 प्रतिशत तक पात्र व्यक्तियों और संस्थानों को आवंटित किया जाएगा।

नीलामी के लिए कंपटेटिव और नॉन-कंपटेटिव दोनों बोलियां 12 अप्रैल, 2024 को भारतीय रिजर्व बैंक कोर बैंकिंग सॉल्यूशन (ई-कुबेर) सिस्टम पर इलेक्ट्रॉनिक प्रारूप में प्रस्तुत की जानी चाहिए। गैर-प्रतिस्पर्धी बोलियां सुबह 10:30 बजे से 11:00 बजे और प्रतिस्पर्धी बोलियां सुबह 10:30 बजे से 11:30 बजे के बीच प्रस्तुत की जानी चाहिए।

वित्त मंत्रालय ने कहा कि ऑक्शन का रिजल्ट आज ही घोषित कर दिया जाएगा और सफल बोलीदाताओं द्वारा भुगतान 15 अप्रैल को किया जाएगा। प्रतिभूतियां ‘केंद्र सरकार की प्रतिभूतियों में जब जारी लेनदेन’ पर दिशानिर्देशों के अनुसार “आरबीआई ने कब इश्यू किया” , व्यापार के लिए पात्र होंगी।

Share:

Next Post

चेन्नई में मतदाताओं को जागरूक करने अपनाया अनोखा तरीका, पानी के 60 फीट नीचे डाले वोट

Fri Apr 12 , 2024
नई दिल्‍ली (New Delhi) । लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) नजदीक आने के साथ भारत का चुनाव आयोग (election Commission) मतदाताओं को वोटिंग को लेकर जागरूक करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। अभी तक स्कूलों, कॉम्यूनिटी सेंटर, सोसाइटी इत्यादि में वोटिंग को लेकर जागरूकता अभियान (awareness campaign) चलाया जाता था, लेकिन शायद […]