खेल भोपाल मध्‍यप्रदेश

नेशनल हॉकी चैम्पियनशिपः मप्र हॉकी अकादमी ने जीता खिताब

– शूटआउट में ओडिशा नवल टाटा को 6-4 से हराया, खेल मंत्री ने टीम और प्रशिक्षकों को दी बधाई

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में खेली गई प्रथम सब जूनियर बालक अकादमी नेशनल हॉकी चैंपियनिशप-2021 में मध्यप्रदेश हॉकी अकादमी ने अपना विजय अभियान जारी रखते हुए बुधवार को खेले गए फाइनल मुकाबले में ओडिशा नवल टाटा हॉकी हाई परफॉर्मेंस सेंटर को शूटआउट में 6-4 से हराकर खिताब पर कब्जा जमाया। खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने मप्र हॉकी अकादमी की जीत पर टीम को बधाई दी है। उन्होंने टीम की इस जीत को मील का पत्थर करार दिया।

तीसरे स्थान के मुकाबले में राउंडग्लास पंजाब हॉकी अकादमी ने एसजीपीसी हॉकी अकादमी को एकतरफा 5-1 से पराजित किया। चैम्पियनशिप का आयोजन हॉकी इंडिया एवं मप्र खेल और युवा कल्याण विभाग के संयुक्त तत्वावधान में किया गया।

साई सेंटर ग्राम गोरा के टर्फ मैदान पर बुधवार को खेले गए फाइनल मुकाबले में दोनों टीमों ने शानदार खेल दिखाया। पहले ही क्वार्टर से मप्र हॉकी अकादमी के खिलाड़ियों ने दबाव बनाने का प्रयास किया। मैच के 10वें मिनट में मप्र हॉकी अकादमी को पेनल्टी स्ट्रोक मिल गया। मप्र हॉकी अकादमी के सद्दाम अहमद ने इसे गोल में बदलकर टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी। दबाव में आई ओडिशा नवल टाटा की टीम ने ताबड़तोड़ हमले शुरू कर दिए। दूसरे क्वार्टर में भी ओडिशा नवल टाटा ने कई हमले किए लेकिन, मप्र हॉकी अकादमी के गोलकीपर अमान खान ने इन्हें विफल कर दिया। मैच के 21वें मिनट में ओडिशा नवल टाटा को पेनल्टी कॉर्नर मिला, जिस पर कप्तान जसमान मुंडा ने गोल करके टीम को 1-1 की बराबरी पर ला दिया।

तीसरे क्वार्टर में खेल और भी रोमांचक हुआ। मप्र हॉकी अकादमी ने अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए छोटे-छोटे पास पर खेलना शुरू किया। कोच समीर दाद की इस रणनीति से टीम को सफलता भी मिली। मैच के 32वें मिनट में सुभान आबिद ने मैदानी गोल करते हुए टीम को 2-1 की बढ़त दिला दी। ओडिशा नवल टाटा ने इस दबाव से उबरने के लिए प्रयास शुरू कर दिए। दो मिनट बाद ही ओडिशा नवल टाटा को पेनल्टी कॉर्नर मिल गया, जिस पर रिकी टोंजेम ने गोल करते हुए स्कोर 2-2 की बराबरी पर ला दिया।

मप्र हॉकी अकादमी ने फिर एक बार अपनी रणनीति बदलते हुए आक्रामक खेल दिखाया। कप्तान अली अहमद ने 36वें मिनट में मैदानी गोल करते हुए टीम को 3-2 की बढ़त पर ला दिया। मैच का चौथा और अंतिम क्वार्टर काफी रोमांचक रहा। दोनों ही टीमें बराबरी से हमला करती रही। हालांकि, ओडिशा नवल टाटा को मैच के 55वें मिनट में इरेंगबम रोहित सिंह ने मैदानी गोल करते हुए स्कोर 3-3 से बराबर कर दिया। मैच का फैसला शूटआउट से हुआ।

मप्र हॉकी अकादमी के गोलकीपर अमान बने ढाल
शूटआउट में मप्र हॉकी अकादमी की टीम के गोलकीपर अमान खान ने शानदार प्रदर्शन करते हुए चार में से तीन बचाव किए। वहीं, ओडिशा नवल टाटा की टीम के गोली नेलसन बारला पांच में से दो ही गोल बचा पाए। मप्र हॉकी अकादमी की ओर से कप्तान अली अहमद, अरहम जमीर अंसारी और मोहम्मद कोनैन दाद ने गोल किए। सद्दाम अहमद और सुभान आबिद गोल करने से चूक गए। वहीं, ओडिशा नवल टाटा की ओर से इरेंगबम रोहित सिंह ने एकमात्र शूट किया। मप्र हॉकी अकादमी के गोलकीपर अमान खान के इस प्रदर्शन की सभी ने सराहना की।

विजेता टीम को ट्रॉफी
चैंपियन मप्र हॉकी अकादमी की टीम को ट्रॉफी और मेडल देकर सम्मानित किया गया, जबकि उपविजेता ओडिशा नवल टाटा की टीम को ट्रॉफी व मेडल प्रदान किए गए। समापन समारोह में पूर्व संचालक खेल और रिटायर्ड डीजी जेल संजय चौधरी के मुख्य आतिथ्य में पुरस्कार वितरण किया गया। इस अवसर पर ओलंपियन जलालुद्दीन रिजवी, ओलंपियन सैयद अली, अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी अल्ताफ उर रहमान और हसरत कुरैशी विशेष रूप से मौजूद रहे।

महज छह माह में तैयार हुई मप्र हॉकी अकादमी की टीम
मप्र हॉकी अकादमी की यह सब जूनियर टीम महज छह माह पहले ही तैयार हुई है। टीम में आधे से ज्यादा खिलाड़ी अभी-अभी मप्र हॉकी अकादमी से जुड़े हैं। कोरोना काल के बाद खेलों के लिए कम समय के बीच ही टीम के ट्रायल हुए। खिलाड़ियों को एक माह से भी कम का समय मिला, जिसमें टीम ने एकजुटता का परिचय देते हुए यह जीत दर्ज की। टीम में नयन जारिया, विश्वेश सिंह ठाकुर, समी रिजवान, राजा भैया कोरी, सौरभ दांडे, वैभव खुशलानी, प्रशांत राजपूत, अरहम जमरी अंसारी, डेनिक टेलेम सिंह सभी नए खिलाड़ी हैं।

यह जीत मील का पत्थर साबित होगी: खेल मंत्री
प्रदेश की खेल और युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि ओडिशा नवल टाटा हॉकी हाई परफॉर्मेंस की टीम के खिलाफ मिली मप्र हॉकी अकादमी की जीत मील का पत्थर साबित होगी। हमारी टीम नई है और चैंपियनशिप में भाग ले रही अन्य टीमों के मुकाबले उनका प्रदर्शन लाजवाब है। महज छह माह में हमारी टीम ने देश की दिग्गज टीमों की चुनौतियों को ध्वस्त करके यह उपलब्धि हासिल की है। टीम को मुख्य कोच समीर दाद, सहायक कोच बिट्टू सिंह रोहा, खिलाड़ियों सहित सभी सपोर्टिंग स्टाफ को मेरी ओर से बहुत बहुत बधाई। खेल विभाग के प्रतिभा चयन कार्यक्रम का इसमें बड़ा रोल रहा है। प्रतिभा चयन के माध्यम से खिलाड़ियों को चुनना और प्रशिक्षित करना इस जीत में सहायक साबित हुआ है। मप्र हॉकी अकादमी की टीम को भविष्य में अच्छे प्रदर्शन के लिए शुभकामनाएं।

खेल मंत्री का विश्वास और बच्चों की मेहनत रंग लाई: समीर दाद
मप्र हॉकी अकादमी के मुख्य कोच ओलंपियन समीर दाद ने कहा कि यह एक टीम की जीत है। खिलाड़ियों ने कम समय शानदार प्रदर्शन किया है। यह उनकी मेहनत का नतीजा है। उन्होंने कहा कि खेल मंत्री ने मुझ पर और पूरी टीम पर भरोसा जताया, यह जीत उसी का नतीजा है। टीम को सहायक कोच बिट्टू सिंह रोहा, सपोर्टिंग स्टाफ से बहुत मदद मिली। बड़ी टीमों के खिलाफ मैच में फिजियो, साइकोलॉजिस्ट, कंडीशनिंग एंड स्ट्रेंथनिंग कोच और खेल विभाग से मिले सहयोग से हम इस उपलब्धि को हासिल करने में सफल रहे।

मैचों का ऑनलाइन किया गया प्रसारण
प्रथम हॉकी इंडिया सब जूनियर बालक अकादमी नेशनल हॉकी चैंपियनशिप-2021 का प्रसारण ऑनलाइन माध्यम यूट्यूब पर किया गया। चैंपियनशिप के सेमीफाइनल और फाइनल मुकाबलों का इस पर प्रसारण किया गया। (एजेंसी, हि.स.)

Share:

Next Post

Wipro को दूसरी तिमाही में 2,930.6 करोड़ रुपये का हुआ मुनाफा

Thu Oct 14 , 2021
नई दिल्ली। देश की प्रमुख सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी विप्रो (Country’s leading information technology company Wipro) का चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही (second quarter of the current financial year) (जुलाई-सितंबर) में एकीकृत शुद्ध लाभ 17 फीसदी बढ़कर 2,930.6 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। कंपनी ने इसके पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 2,484.4 […]