देश

ओमिक्रोन: वैक्‍सीन का कितना रहता इम्युनिटी बढ़ाने का समय, जानिए, ICMR का जवाब

नई दिल्‍ली। इस समय पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण (corona infection) को लेकर एक बार फिर हाहाकार मच गया है, क्‍योंकि जिस तह से यह संक्रमण (corona infection) फैल रहा है, यह किसी से अछूता नहीं है। आए दिन इनके मालों में रिकॉर्ड दर्ज किए जा रहे हैं। इसी को देखते हुए भारत जैसे देशों में वैक्‍सीन लगाने के लिए और तेजी ला दी है। जिससे इस तरह के गंभीर संक्रमण से निपटा जाए।
दूसरी तरह यह सवाल उठ रहा है कि जब दूसरी डोज लग चुकी है तो तीसरे की क्‍या जरूरत है, क्‍योंकि लोगों की बॉडी में इम्युनिटी तो बढ़ गई। इन्‍हीं सब के बीच इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के निदेशक डॉक्टर बलराम भार्गव (Dr Balram Bhargava) ने बताया कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ टीकाकरण को सबसे अहम बताया है। सरकार ने कहा कि टीके की एक एहतियाती (तीसरी) खुराक जो स्वास्थ्य देखभाल, अग्रिम पंक्ति के कर्मियों और अन्य बीमारियों से ग्रसित 60 वर्ष से ऊपर के नागरिकों को दी जाएगी। डॉक्टर भार्गव ने कहा कि सार्स-सीओवी-2 वायरस प्राकृतिक माहौल में किसी व्यक्ति को संक्रमित करता है और एंटीबॉडी मध्यस्थता, कोशिका मध्यस्थता प्रतिरक्षा (Cell Mediated Immunity) और प्रतिरक्षात्मक स्मृति (Immunological Memory) प्राप्त करता है। उन्होंने कहा कि संकर प्रतिरक्षा (Hybrid Immunity), जो टीकाकरण और प्राकृतिक संक्रमण (Natural Infection) के परिणामस्वरूप विकसित होती है, दूसरी खुराक के बाद एक मजबूत प्रतिक्रिया और मजबूत एंटीबॉडी अनुमापांक तैयार करती है। उन्होंने कहा, हालांकि एंटीबॉडी को मापना ही समूची सुरक्षा के बारे में नहीं बताता है। भार्गव ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘संक्रमण के बाद प्रतिरक्षा का स्थायित्व लगभग नौ महीने तक बना रहता है।


उन्होंने कहा कि अगर आपको संक्रमण हुआ और आपका टीकाकरण भी हुआ है तो आपकी प्रतिरोधक प्रतिक्रिया उन लोगों से ज्यादा होगी जिन्हें सिर्फ संक्रमण हुआ या जिन्होंने सिर्फ टीका लगवाया। इसलिए महत्वपूर्ण चीज यह है कि टीकाकरण अत्यंत अनिवार्य है।’ वैश्विक साक्ष्यों का हवाला देते हुए भार्गव ने कहा कि सार्स-सीओवी-2 की प्रतिरक्षात्मक स्मृति स्वाभाविक तौर पर संक्रमित होने के आठ महीनों से ज्यादा वक्त तक बनी रहती है।
उन्‍होंने कहा कि यह अमेरिका में ‘साइंस’ में प्रकाशित है, और चीन में संक्रमण के नौ महीने से अधिक समय बाद एंटीबॉडी और कोशिकीय प्रतिक्रिया मिली हैं। फिर अमेरिका में जांच में कई अध्ययनों से पता चला है कि एंटीबॉडी प्रतिक्रियाएं संक्रमण के बाद 13 महीने से अधिक समय तक बनी रहती हैं और इज़राइल, इंग्लैंड, डेनमार्क, अमेरिका, ऑस्ट्रिया और इटली के 10 अध्ययनों की व्यवस्थित समीक्षा में 90 प्रतिशत से अधिक मामलों में 10 महीनों तक पुन:संक्रमण में कमी आई है।

Share:

Next Post

दिशा पाटनी इन तस्‍वीरों को देख फैंस की आंखें नहीं हो रही बंद, फोटोज वायरल

Fri Dec 31 , 2021
मुंबई। बॉलीवुड की मशहूर अदाकारा दिशा पाटनी (Disha Patani) इन दिनों मालदीव (Maldives) पहुंची हैं. एक्ट्रेस को समंदर कितना ज्यादा पसंद है यह उनके इंस्टाग्राम देखने पर पता चल जाता है. एक बार फिर वो अपना समंदर के प्रति प्रेम दिखा रही(showing love for the ocean) हैं. हाल ही में एक्ट्रेस ने अपनी बिकिनी फोटो […]