भोपाल

मप्र में छह दिसंबर के बाद होगी पंचायत चुनाव की घोषणा

  • राज्य निर्वाचन आयोग ने मतदाता सूची के संक्षिप्त पुनरीक्षण का कार्यक्रम किया घोषित
  • सिर्फ प्रभावित पंचायतों की नए सिरे से बनेगी मतदाता सूची

भोपाल। मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव छह दिसंबर के बाद कभी भी कराए जा सकते हैं। इसके लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने मध्य प्रदेश पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज (संशोधन) अध्यादेश लागू होने के बाद मतदाता सूची के संक्षिप्त पुनरीक्षण का कार्यक्रम घोषित किया है। इसके तहत सिर्फ उन्हीं पंचायतों की मतदाता सूची नए सिरे से तैयार की जाएगी, जो नया परिसीमन निरस्त करने से प्रभावित हुई हैं।
फोटोयुक्त मतदाता सूची के प्रारूप का प्रकाशन ग्राम पंचायत सहित अन्य सार्वजनिक स्थानों पर 29 नवंबर को किया जाएगा। दावे- आपत्ति का निराकरण करके छह दिसंबर को मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन किया जाएगा। राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव बीएस जामोद ने बताया है कि गुरुवार से मतदाता सूची का काम प्रारंभ हो जाएगा। 26 नवंबर तक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी उन मतदाताओं की क्षेत्रवार पहचान कर लेंगे, जिनके नाम दूसरे मतदान केंद्रों की सूची में दर्ज किए जाने हैं।

तीन दिसंबर तक दावे-आपत्ति लिए जाएंगे
29 नवंबर को फोटोयुक्त प्रारूप मतदाता सूची का ग्राम पंचायत स्थानों पर प्रकाशन होगा। तीन दिसंबर तक दावे-आपत्ति लिए जाएंगे और चार दिसंबर को इनका निराकरण किया जाएगा। छह नवंबर को फोटोयुक्त अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन कर दिया जाएगा। इस बीच पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग आयोग को 2014 की स्थिति में आरक्षण सहित अन्य जानकारियां उपलब्ध कराएगा। इसके आधार पर आयोग निर्वाचन कार्यक्रम तैयार करेगा।

Share:

Next Post

BJP के आदिवासी वोट बैंक में सेंध से एलर्ट हुई Congress

Thu Nov 25 , 2021
सक्रिय आदिवासियों को सामान्य सीटों पर भी टिकट भोपाल। कांग्रेस के लिए आदिवासी बड़ा वोट बैंक रहा है, लेकिन अब भाजपा ने यहां सेंधमारी शुरू कर दी है। इससे कांग्रेस भी एलर्ट हुई है। इसको लेकर बुधवार को कमलनाथ ने इस वर्ग के विधायकों, पूर्व विधायकों, अन्य पदाधिकारियों के साथ मंथन किया। पदाधिकारियां का सुझाव […]