जीवनशैली मध्‍यप्रदेश

बारिश से पहले बंद होने वाले हैं सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के गेट

नर्मदापुरम (Narmadapuram)। पर्यटकों के लिए सतपुड़ा टाइगर रिजर्व (Satpura Tiger Reserve) में घूमने का यह आखिरी महीना है. इसके बाद जंगल सफारी करने और वन्य प्राणियों को देखने के लिए पर्यटकों को लंबा इंतजार करना पड़ेगा, क्योंकि अगले महीने से सतपुड़ा टाइगर रिजर्व (Satpura Tiger Reserve) के गेट बंद हो जाएंगे. इसके बाद अक्टूबर में खुलेंगे. अगले महीने के बाद से लगभग 3 महीने से अधिक समय तक सैलानी वन्य प्राणियों को नहीं देख सकेंगे, न ही उनकी पसंदीदा जगह मड़ई, चूरना घूम सकेंगे.

सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर एल कृष्णमूर्ति ने बताया कि वन प्राणियों को देखने के लिए पर्यटकों को अक्टूबर तक इंतजार करना पड़ेगा. सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में अक्टूबर से लेकर जून तक पर्यटक बड़ी संख्या में वन्य प्राणियों को देखने यहां आते हैं. इसके अलावा अगर जून माह के अंतिम सप्ताह में तेज बारिश नहीं होती, तो फिर जुलाई माह में सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के गेट बंद कर दिए जाएंगे.



बारिश में अंदर जाना खतरे से खाली नहीं
सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के गेट मानसून शुरू होते ही बंद कर दिए जाते हैं, क्योंकि मानसून में टाइगर रिजर्व के अंदर जिप्सी नहीं चल पाती. रिजर्व के अंदर कच्ची सड़क और छोटी-छोटी नदियां होती हैं, जिन पर पानी आने के कारण वाहन नहीं चल पाते, इसलिए मानसून शुरू होते ही सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के गेट बंद कर दिए जाते हैं. यहां पर सड़क अस्त-व्यस्त हो जाती है. इसके अलावा बारिश में वन्य प्राणियों की सुरक्षा कड़ी कर दी जाती है. साथ ही पेट्रोलिंग होती है. बारिश में कई जानवर इधर-उधर भागते हैं, इसलिए आम लोगों को टाइगर रिजर्व में जाना प्रतिबंधित कर दिया जाता है. मानसून खत्म होने पर ही सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के गेट पुनः खोले जाते हैं.

Share:

Next Post

BJP कार्यकताओं ने लगाए ’केसीआर लापता’ के पोस्टर, कहा- विधायक अपने लोगों से नहीं मिल रहे

Sun Jun 16 , 2024
डेस्क। तेलंगाना में गजवेल विधानसभा क्षेत्र के भाजपा कार्यकर्ता केसीआर लापता के पोस्टर चिपकाए हैं। इन पोस्टर में कहा गया है कि बीआरएस अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव जनता के लिए दुर्गम हैं। वे अपने क्षेत्र से लोगों से मिलते ही नहीं है। न ही वे यहां नजर आते हैं। विधायक के इस […]