जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

मजबूत इम्‍युनिटी ही कोरोना से बचाने में मददगार, बच्‍चों की डाइट में शामिल करें ये चीजें


कोरोना संक्रमण (corona infection) से पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है वही दूसरी और टीकाकरण भी तेजी से चल रहा है । लेकिन कोरोना अब बच्चों को भी अपनी चपेट में ले रहा है उसे देखते हुए जरूरी तैयारियां की जा रही हैं जिससे तीसरी लहर से बच्चों को बचाया जा सके, लेकिन सिर्फ इतना करना ही काफी नहीं होगा। पेरेंट्स की इस समय बड़ी जिम्मेदारी बनती है कि वो बच्चों के खानपान (food and drink) का ध्यान रखें जिससे उनकी इम्यूनिटी अच्छी रहे। जिसमें खानपान का बहुत बड़ा रोल है। तो आइए जानते हैं बच्चों की इम्यूनिटी मजबूत (immunity strong) करने के लिए उनकी डाइट में क्या-क्या शामिल किया जाए।

बच्चों को इंफेक्शन से बचाए रखने के साथ उनकी इम्यूनिटी भी बिल्ड करने का काम करता है हल्दी वाला दूध। तो नाश्ते या शाम को दिन में एकबार उन्हें हल्दी वाला दूध जरूर पीने को दें।

यहां कलरफुल से मतलब है अलग-अलग रंग की सब्जियां और फल (vegetables and fruits)। इनमें माइक्रोन्यूट्रिएंट्स और एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants) होते हैं। दिन की शुरूआत सेब से करें, नाश्ते में अंडा, केला, उपमा, उत्तपम, पोहा जैसी चीज़ें सर्व करें। दिन में एक से दो फल उन्हें जरूर खिलाएं। ये सारी चीज़ें हेल्थ के पैरामीटर पर एकदम खरी हैं और इससे इम्यूनिटी भी बढ़ती है।


स्नैक्स में ऑयली, फैटी फूड्स (fatty foods) की जगह काजू, बादाम, किशमिश, अखरोट, फ्लैक्स सीड्स, कद्दू और सूरजमुखी के बीज से उनका पेट भरने की कोशिश करें। विटामिन ई (Vitamin E) से भरपूर होते हैं जो एक बहुत ही जरूरी एंटीऑक्सीडेंट होता है। इससे इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग होती है।

झटपट खाना बनाने के चक्कर में अगर आप पैक्ड फूड्स का ज्यादा इस्तेमाल करती हैं जो आज ही इस आदत को बदल डालें क्योंकि इसमे सैचुरेटेड फैटी एसिड, शर्करा और नमक की मात्रा ज्यादा होती है। साथ ही इसमें कई तरह के आर्टिफिशियल कलर भी मिक्स किए जाते हैं जो बच्चों की हेल्थ के लिए बिल्कुल भी सही नहीं।

हेल्थ और इम्यूनिटी को अच्छा रखने के साथ मोटापे और दूसरी बीमारियों (diseases) से दूर रहना है तो खाना खाने का समय तय करें। इससे आप बेवजह कुछ भी खाने से बचेंगे। खाने के बाद तुरंत सोने न जाएं, हल्का-फुल्का मूवमेंट करने के बाद बिस्तर पर जाएं।

केला, प्याज, लहसुन, दही, छाछ जैसी चीज़ें उन्हें खाने को दें। इसमें गुड बैक्टीरिया (good bacteria) होते हैं। यह आंत के जरिए खून में जाने वाले हानिकारक जीवाणुओं को कम करते हैं।

नोट- उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्‍य सूचना के उद्देश्‍य के लिए हैं इन्‍हें किसी चिकत्‍सक के रूप में न समझें। हम इसकी सत्‍यता व सटीकता की जांच का दावा नही करते ,कोई भी सवाल या परेंशानी हो तो विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें ।

Next Post

विलुप्त हुए चीतों को बसाने की तैयारी

Tue Jun 15 , 2021
कूनो के स्टाफ की चीतों के रखरखाव के लिए अफ्रीका में स्पेशल ट्रेनिंग कराई जाएगी कूनो में 70 तेंदुओं से चीतों को खतरा इसलिए बना रहे 5 वर्ग किमी का विशेष बाड़ा, करंट वाली फेंसिंग से करेंगे सुरक्षा भोपाल। देश से 74 साल पहले विलुप्त हुए चीतों को फिर से यहां बसाने के लिए मध्यप्रदेश […]