जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

महिलाओ की सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है ये चीजें, डाइट मे जरूर करें शामिल

महिला घर के काम में इतना व्‍यस्‍त रहती है कि परिवार का ध्‍यान रखते रखतें वह अपने स्‍वस्‍थ्‍य का ध्‍यान रखना भूल जाती है । इसके अलावा महिलाओं (Women) के शरीर में कई तरह के बदलाव होते रहते हैं। बदलते खानपान और दिनचर्या के कारण शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति नहीं हो पाती। महिलाएं (Women) घर के कामों और परिवार में इतनी व्यस्त होती हैं कि वे खुद के शरीर का सही ढंग से ख्याल ही नहीं रख पाती हैं। शरीर के लिए जरूरी विटामिन्स (Vitamins) को लेकर भी महिलाएं (Women)अक्सर जागरूक नहीं रहती हैं। उन्हें पता ही नहीं होता है कि उन्हें किस विटामिन (Vitamins) की कितनी आवश्यकता है और किन चीजों से उन्हें ये पोषक तत्व प्राप्त हो सकते हैं।

हडि्डयों की मजबूती के लिए विटामिन-डी बेहद जरूरी है। रजोनिवृति के बाद महिलाओं में और वृद्धों को अक्सर ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) (हड्डी का रोग) की समस्या होती है। विटामिन-डी (vitamin D) शरीर में फास्फोरस और कैल्शियम के स्तर का बनाए रखता है। जो इस तरह की बीमारियों को दूर करने में मददगार है। ये पालक, भिंडी, सोयाबीन, अंडे की जर्दी और मशरूम में पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है।

यह हृदय, मांसपेशियों और नसों को ठीक से प्रकार से कार्य करने और रक्त के जमे हुए थक्कों को गांठ खोलने में कैल्शियम की आवश्यकता होती है। कैल्शियम की कमी के कारण ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके साथ ही गिरने पर अस्थिभंग होने का भी खतरा रहता है। कैल्शियम बीज, पनीर, दही, फली, दाल और पत्तेदार सब्जियों में पाया जाता है।


ये शरीर में तंत्रिका कोशिकाओं को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है। यह शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण भी करता है। यह शरीर में ऊर्जा बनाएं रखने के साथ ही याद्दाश्त बढ़ाने और हृदय सम्बंधी समस्याओं को दूर करता है। यह अनाज और खमीर द्वारा प्राप्त होता है। विटामीन- बी-12 का यदि पर्याप्त मात्रा में सेवन किया जाए तो दिल की बीमारियां दूर ही रहती हैं।

यह शरीर के लिए बेहद जरूरी होता है। ये त्वचा, नाखून और बालों को स्वस्थ बनाए रखता है। गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को बायोटिन की आवश्यकता अधिक होती है। ये अंडा, बादाम, गोभी, पनीर, मशरूम व शकरकंद में भरपूर मात्रा में पाया जाता है। बायोटिन की कमी का असर सीधा त्वचा पर दिखाई पड़ता है।

आयरन (Iron) शरीर के लिए बेहद आवश्यक खनिज है। शरीर में पर्याप्त मात्रा में स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं (Red blood cells) के निर्माण लिए इसकी आवश्यकता होती है। लाल रक्त कोशिकाएं शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने के साथ ही ऊर्जा बनाए रखती हैं। महावारी के कारण कई महिलाओं में आयरन की कमी हो जाती है यदि वे पर्याप्त मात्रा में इसका सेवन नहीं करती हैं। पालक, फलियां, कद्दू के बीज, क्विनोआ आदि में पर्याप्त मात्रा में आयरन पाया जाता है।

नोट – उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव समान्‍य जानकारी के लिए हैं इन्‍हें किसी प्रोफेशनल डॉक्‍टर की सलाह के रूप में नही लिया जाना चाहिए । कोई भी बीमारी या परेंशानी हो तो डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें ।

Next Post

Umar Akmal की प्रतिबंध अवधि घटकर हुई एक साल

Fri Feb 26 , 2021
कराची। पाकिस्तानी विकेटकीपर बल्लेबाज उमर अकमल (Umar Akmal) पर लगे 18 महीने के प्रतिबंध को खेल विवादों को सुलझाने वाली सबसे बड़ी संस्था कोर्ट ऑफ आर्बिटरेशन फॉर स्पोर्ट्स (Association Court of Arbitration for Sports)(कैस) ने घटाकर एक साल का कर दिया है। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने पिछले साल उमर पर 3 साल का प्रतिबंध […]