देश

रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए मध्यभारत के 25 लाख परिवारों तक पहुंचेगी VHP

भोपाल (Bhopal)। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र (Ram Janmabhoomi pilgrimage site) के आह्वान पर अयोध्या (Ayodhya) में आगामी जनवरी में होने वाले रामलला के प्राण-प्रतिष्ठा कार्यक्रम (Ramlala’s life consecration program) के लिए मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) से करीब 25 लाख से अधिक परिवारों को निमंत्रण दिया जाएगा। इसके लिए श्री राम मंदिर में पूजित अक्षत (पीले चावल) कलश पांच नवंबर को ही यहां आ चुके हैं। इन पूजित अक्षत कलश को भोपाल के गुफा मंदिर में रखा गया है। मंगलवार को इन अक्षत कलशों को अलग-अलग जिलों में भेजा गया।



इस अवसर पर भोपाल सांसद महामंडलेश्वर प्रज्ञा भारती ठाकुर, महंत रामदास त्यागी महाराज, महंत अनिलानंद महाराज, महामंडलेश्वर राम भूषण दास महाराज, महंत राधा मोहन दास जी महाराज, महंत रविंद्र दास महाराज, सुदेश शांडिल्य महाराज, विहिप केंद्रीय उपाध्यक्ष हुकुमचंद सावला, संघ के प्रांत संघचालक अशोक पांडे, विहिप प्रांत अध्यक्ष पीतांबर राजदेव एवं संघ परिवार के अन्य संगठनों के प्रमुख पदाधिकारी, समाज के गणमान्य नागरिक के साथ मध्य भारत प्रांत में आने वाले संगठन के 32 जिलों के प्रतिनिधि पूजित अक्षत कलश अपने जिलों में ले जाने के लिए उपस्थित रहे।

तीर्थ क्षेत्र न्यास के आह्वान पर इस अक्षत निमंत्रण को एक जनवरी से 15 जनवरी के बीच नगर ग्रामों में हिंदू परिवारों तक पहुंचाया जाएगा। विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता अन्य हिंदू संगठनों के साथ मिलकर इसे घर-घर तक पहुंचाएंगे। विहिप ने देश को 45 भागों में बांटकर प्रत्येक भाग के लिए 27 जनवरी से 22 फरवरी के बीच में दर्शन की व्यवस्था की है। सभी के लिए दिन और समय तय किया गया है। इसी क्रम में मध्य भारत प्रांत से दिनांक 17 फरवरी को लगभग 2,500 लोगों के दर्शनों की व्यवस्था की गई है।

Share:

Next Post

'क्या विदेश जाकर शादी करनी जरूरी है?' मन की बात में PM मोदी ने किया सवाल

Sun Nov 26 , 2023
नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी ने आज मन की बात के 107वें एपिसोड में वोकल फॉर लोकल अभियान की सफलता के बारे में बात की. उन्होंने कहा कि साथियों, भारतीय उत्पादों के प्रति यह भावना केवल त्योहारों तक सीमित नहीं रहनी चाहिए. अभी शादियों का मौसम भी शुरू हो चुका है. कुछ व्यापार संगठनों का […]