विदेश

पृथ्वी के पास से गुजरेगा विशाल एस्टेरॉयड़, जानिए धरती के लिए कितना खतरा

वॉशिंगटन: एक बड़ा एस्टेरॉयड (asteroid) धरती (Earth) के पास से गुजरने जा रहा है। इसका आकार (Size) करीब 210 फीट (210 Feet) है, यानी ये एक बड़ी नौका के साइज का है। इसे देखते हुए स्पेस एजेंसी नासा (NASA) ने चेतावनी जारी की है। इस एस्टेरॉयड को वैज्ञानिको ने ‘2024 एलजे’ (2024 LJ) नाम दिया गया है। एस्टेरॉयड 2024 एलजे पृथ्वी से इतनी दूरी से गुजरने वाला है कि नासा को इस पर ध्यान देना होगा। यह एस्टेरॉयड 66,584 मील प्रति घंटे की तेज रफ्तार से गति से गुजरेगा। 22 जून, शनिवार को ये धरती से 2.1 मिलियन मील की दूरी पर होगा। इस दौरान वैज्ञानिक इसकी निगरानी करेंगे। एस्टेरॉयड दृष्टिकोण हमारे सौर मंडल के खास पहलू को दिखाता है, जहां आकाशीय पिंड लगातार गति में हैं।


अंतरिक्ष के माध्यम से 2024 एलजे की यात्रा इस उड़ान के दौरान इसके आकार और पृथ्वी से निकटता के कारण विशेष रूप से उल्लेखनीय है। इसके लिए ‘खतरनाक रूप से करीब’ शब्द अंतरिक्ष के विशाल विस्तार के बारे में है क्योंकि पृथ्वी के पास से गुजरने वाली किसी भी बड़ी वस्तु को सावधानीपूर्वक अवलोकन की आवश्यकता होती है।

एस्टेरॉयड पर वैज्ञानिकों की नजर क्यों?
2024 एलजे जैसे नियर अर्थ ऑब्जेक्ट (एनईओ) पर नासा की सतर्क नजर इन खगोलीय घटनाओं को समझने और ट्रैक करने के व्यापक प्रयास का हिस्सा है। एजेंसी के ग्रह रक्षा समन्वय कार्यालय (पीडीसीओ) को संभावित खतरनाक क्षुद्रग्रहों और धूमकेतुओं की पहचान करने का काम सौंपा गया है जो पृथ्वी की कक्षा के 30 मिलियन मील के भीतर आते हैं। 2024 एलजे इस श्रेणी में आता है, इसलिए नहीं कि यह तत्काल खतरा पैदा करता है, बल्कि इसलिए क्योंकि इसका रास्ता इसे ध्यान आकर्षित करने के लिए पर्याप्त करीब लाता है।

2024 एलजे जिस गति से यात्रा कर रहा है वह आश्चर्यजनक से कम नहीं है। इसे परिप्रेक्ष्य में रखने के लिए, यह गति ध्वनि की गति से 80 गुना अधिक तेज है, जो लगभग 767 मील प्रति घंटे की गति से यात्रा करती है। इस तीव्र गति का मतलब है कि 2024 एलजे पृथ्वी की परिधि के बराबर दूरी को केवल एक घंटे से अधिक समय में पार कर लेगा। 2024 एलजे से जुड़े प्रभावशाली आंकड़ों के बावजूद, नासा ने आश्वासन दिया है कि इससे धरती को कोई खतरा नहीं है। ये सुरक्षित दूरी से पृथ्वी के पास से गुजरेगा, जिससे प्रभाव का कोई खतरा नहीं होगा।

नियर-अर्थ ऑब्जेक्ट्स एस्टेरॉयड और धूमकेतु जैसे खगोलीय पिंड हैं जिनकी कक्षाएं उन्हें पृथ्वी के करीब लाती हैं। कुछ एनईओ जो अक्सर पृथ्वी के पास से गुजरते हैं उनमें 2006 WB, 2010 RA91, 2015 VO142 और 2016 VA जैसी वस्तुएं शामिल हैं। संभावित प्रभाव जोखिम के कारण अंतरिक्ष एजेंसियों द्वारा इन वस्तुओं की बारीकी से निगरानी की जाती है। उदाहरण के लिए 2016 वीए को पृथ्वी के अपेक्षाकृत करीब आने के लिए जाना जाता है, जिससे यह खगोलविदों और एनईओ ट्रैकिंग कार्यक्रमों के लिए विशेष रुचि का विषय बन गया है।

Share:

Next Post

लोकसभा उपाध्यक्ष पद को लेकर पक्ष-विपक्ष में हो सकता है टकराव

Thu Jun 20 , 2024
नई दिल्ली। भाजपा (BJP) ने लोकसभा स्पीकर (Lok Sabha Speaker) के मुद्दे पर एनडीए (NDA) के घटक दलों के बीच लगभग सहमति बना ली है। भाजपा के उम्मीदवार पर सहयोगी दलों का पूर्ण समर्थन मिल गया है। अब रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) इस मुद्दे पर विपक्ष के साथ सहमति बनाने पर […]