आचंलिक इंदौर न्यूज़ (Indore News)

पीथमपुर की छत्रछाया कॉलोनी की बर्तन दुकान में गैस रिफिलिंग के दौरान में लगी भीषण आग

इंदौर। पीथमपुर (Pithampur) सेक्टर नंबर एक की छत्रछाया कॉलोनी (Chhatrachhaya Colony) में टायर की दुकान में अचानक आग (Fire) लग गई धीरे-धीरे आग ने काफी विकराल रूप ले लिया। थोड़ी-थोड़ी देर पर धमाके भी होने लगे। कई किलोमीटर दूर तक आग का गुबार (fireball) दिखाई देने लगा। बड़ी तादाद में रहवासी भी घटनास्थल पर एकत्रित हो गए दमकल के लगभग 5 से अधिक गाड़ियों की मदद से आग पर काबू पाया गया।

पीथमपुर 25 जून मंगलवार को दोपहर छत्रछाया कॉलोनी में गैस सिलेंडर फटने से भीषण आग लग गई। पहले ब्लास्ट की आवाज सुनते ही दुकान के ऊपर बने कमरों में रह रहे किराएदार बाहर निकल गए। जिससे कोई जन हानि हुई। प्राप्त जानकारी के अनुसार छात्र छाया कॉलोनी के बाजार में प्रवीण गुप्ता की बर्तन की दुकान है, तथा उसके साइड में ही उसके भाई पवन गुप्ता की टायरों की दुकान है।


प्रवीण गुप्ता अपनी बर्तन की दुकान में गैस के बड़े सिलेंडर से छोटे सिलेंडर में गैस ट्रांसफर कर रहा था, इस समय अचानक सिलेंडर से आग लगने से पवन गुप्ता के टायरों में आग लग गई। इसके बाद धमाके के साथ टंकियां फूटने लगी। एक टंकी फुटकर पड़ोस की छत पर जाकर गिरी। घटनास्थल पर पहुंचे नगर पालिका अधिकारी निशिकांत शुक्ला ने बताया कि दुकान के अंदर अवैध गैस रिफलिंग का कार्य किया जाता था।

कोई जनहानि नहीं हुई है आग पर काबू पाया जा चुका है और क्षेत्र में कई शिकायतें भी आ रही है अवैध गैस रिफिलिंग की अगर इस प्रकार की कोई गैस रिफिलिंग का कार्य करता है तो उसे पर कानूनी कार्यवाही की जाएगी. वही नगर पालिका अध्यक्ष प्रतिनिधि सुरेश पटेल ने बताया कि अवैध गैस रिफिलिंग पीथमपुर में धड़ल्ले से हो रही है जिसकी शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों को की जाएगी और उन पर कठोर से कठोर कार्रवाई की मांग हम करेंगे ताकि भविष्य में पीथमपुर में ऐसी कोई घटना घटित ना हो।

Share:

Next Post

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई भाजपा नेताओं ने आपातकाल को बताया ‘लोकतंत्र का काला दिन’

Tue Jun 25 , 2024
नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई भाजपा नेताओं (Many BJP leaders including Prime Minister Narendra Modi) ने आपातकाल को ‘लोकतंत्र का काला दिन’ (बताया (Clled Emergency ‘Black Day of Democracy’) । आज ही के दिन 25 जून 1975 को देश में आपातकाल लगाया गया था। इसे ‘ब्लैक डे ऑफ ड्रेमोक्रेसी’ यानी लोकतंत्र के […]