भोपाल

अन्नदाता कम कीमत पर धान बेचने मजबूर

  • प्रदेश में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी 29 नवंबर से

भोपाल। शासन द्वारा समर्थन मूल्य पर धान खरीदी में अभी चार दिन का समय और होने से छोटे किसान अपनी उपज समर्थन मूल्य से भी कम दाम पर बेचने विवश हैं। क्षेत्र में एक पखवाड़े से धान की कटाई जारी है। धान कटाई के बाद किसानों को गेहूं की बोनी, खाद, कीटनाशक व अन्य कार्यों के लिए रुपयों की जरूरत है। इसलिए किसान बिचौलियों व व्यापारियों को मनमाने दाम पर अपनी उपज बेचकर अपना काम कर रहे हैं। प्रदेश में 29 नवंबर से समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी होगी। इस बार प्रदेश में धान की बंपर पैदावार होने की संभावना है। क्योंकि किसानों ने 35 लाख हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में धान की बोवनी की गई। इसे ध्यान में रखते हुए सरकार ने समर्थन मूल्य पर रिकार्ड 45 लाख टन से ज्यादा धान खरीदने की तैयारियां की हैं। लेकिन दूसरी तरह छोटे किसानों ने खेत से निकलते ही धान को बेचना शुरू कर दिया है।


व्यापारी और बिचौलिए गांव पहुंच कर रहे खरीदी
प्रदेश में धान की बंपर पैदावर को देखते हुए व्यापारी और बिचौलिए सक्रिय हो गए हैं। कुछ व्यापारी और बिचौलिए तो किसानों के रजिस्ट्रेशन सहित धान खरीद रहे हैं। बताया जाता है कि इन व्यापारियों ने खरीदी केंद्रों के संचालकों से लंबी सेटिंग कर रखी है जिससे वह धान का बड़ा व्यापार कर रहे हैं। वर्तमान में व्यापारियों के यहां बेखौफ धान की खरीदी की जा रही है। उधर किसानों का कहना है कि आगे की बुवाई करने के लिए क्षेत्र के व्यापारियों को ही 1500 रुपए प्रति क्विंटल की दर से धान बेच रहे है। वैसे भी धान खरीदी केंद्रों में धान बेचने के लिए अनेकों चक्कर लगाने पड़ते हैं। लंबा इंतजार करना पड़ता है। शासन द्वारा 29 नवंबर से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी शुरू की जाएगी, जिसमें धान का समर्थन मूल्य 1940 प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है।

प्रदेश में इस बार होगी धान की बंपर पैदावार
इस बार प्रदेश में धान की बंपर पैदावार होने की संभावना है। क्योंकि किसानों ने 35 लाख हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में धान की बोवनी की गई। इसे ध्यान में रखते हुए सरकार ने समर्थन मूल्य पर रिकार्ड 45 लाख टन से ज्यादा धान खरीदने की तैयारियां की हैं। पिछले साल राज्य में सर्वाधिक 37 लाख टन धान समर्थन मूल्य पर खरीदा गई था। कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, प्रदेश में किसान सोयाबीन से मुंह मोडऩे लगे हैं और धान की ओर उनका रूझान बढऩे लगा है। प्रदेश में धान के समर्थन मूल्य पर खरीद बढऩे के साथ धीरे-धीरे धान का क्षेत्र भी बढ़ता जा रहा है। 2019 में 30.76 लाख हेक्टेयर में धान बोया गया था। जबकि 2020 में 34.04 लाख हेक्टेयर में बोवनी की गई। वर्ष 2021 में 35 लाख हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में धान की खेती की गई है।

साल दर साल बढ़ रहा उत्पादन
प्रदेश में धान का उत्पादन लगातार बढ़ रहा है। पिछले साल 106 लाख टन से ज्यादा धान हुआ था। इस बार अनुमान है कि 125 लाख टन से ज्यादा धान का उत्पादन होगा। पिछले साल पांच लाख 80 हजार किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा था। इस बार नौ लाख से ज्यादा किसानों ने पंजीयन कराया है। इसे देखते हुए खाद्य, नागरिक आपूर्ति विभाग ने समर्थन मूल्य पर 45 लाख टन धान बिकने के लिए उपार्जन केंद्रों पर आने का अनुमान लगाया है। केंद्र सरकार ने समर्थन मूल्य भी 72 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ाकर एक हजार 940 रुपए कर दिया है। खाद्य, नागरिक आपूर्ति के प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई ने बताया कि इस बार पिछले साल से अधिक किसानों ने पंजीयन कराया है। हमने धान खरीदने, रखने और मिलिंग की पूरी तैयारी कर ली है।

धान खरीदने के साथ-साथ होगी मिलिंग
सरकार ने तय किया है कि धान की खरीद के साथ-साथ मिलिंग भी होती जाए। इसके लिए तय नीति के तहत जिलेवार मिल संचालकों को धान आवंटित किया जाएगा। दरअसल, पिछले साल मिलिंग को लेकर काफी समस्या आई थी। मिलर एक क्विंटल धान के एवज में 67 किलोग्राम चावल देने के लिए तैयार नहीं थे। मिलर एसोसिएशन का कहना था कि धान की गुणवत्ता प्रभावित होने की वजह से टूटन अधिक हो रही है, जिससे भारतीय खाद्य निगम के मापदंड के अनुसार 67 किलोग्राम चावल देना संभव नहीं है। प्रोत्साहन राशि भी कम है। इसे देखते हुए सरकार ने मिलिंग की नीति में बदलाव करके 50 रुपए प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि के साथ अपग्रेडेशन के लिए 50 से लेकर दो सौ रुपए प्रति क्विंटल तक अतिरिक्त राशि देने का प्रविधान किया है। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि इस बार दस लाख टन चावल सेंट्रल पूल में दिया जाएगा। पिछले साल के धान से चावल बनाकर चार लाख टन भारतीय खाद्य निगम को दिया जा चुका है। दो लाख टन और दिसंबर तक देने की तैयारी है। प्रतिमाह तीन लाख टन धान की मिलिंग हो रही है।

Share:

Next Post

मप्र में छह दिसंबर के बाद होगी पंचायत चुनाव की घोषणा

Thu Nov 25 , 2021
राज्य निर्वाचन आयोग ने मतदाता सूची के संक्षिप्त पुनरीक्षण का कार्यक्रम किया घोषित सिर्फ प्रभावित पंचायतों की नए सिरे से बनेगी मतदाता सूची भोपाल। मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव छह दिसंबर के बाद कभी भी कराए जा सकते हैं। इसके लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने मध्य प्रदेश पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज (संशोधन) अध्यादेश लागू […]