इंदौर न्यूज़ (Indore News) भोपाल न्यूज़ (Bhopal News) मध्‍यप्रदेश

ताल बना पूरा भोपाल

भोपाल। मध्यप्रदेश में लगातार हो रही जोरदार बारिश से कई जिलों में भारी तबाही मची है। पिछले 24 घंटे में भोपाल में सर्वाधिक 8 इंच वर्षा से पूरा भोपाल तालाब बन गया। वहीं गुना, सागर, रायसेन, जबलपुर, पचमढ़ी (Guna, Sagar, Raisen, Jabalpur, Pachmarhi) में भी लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जिले की कई निचली बस्तियां जलमग्न हो गई हैं। बाढ़ में घिरे हजारों लोगों को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन (rescue operation) चल रहा है। भोपाल के अलावा गुना में 174.5 मिलीमीटर, सागर में 173, रायसेन में 162, जबलपुर में 160, पचमढ़ी में 148, नरसिंगपुर में 117, दमोह में 104, नर्मदापुरम में 105 और खजुराहो में 175 मिलीमीटर बारिश हुई है, जबकि सिवनी में जोरदार बारिश जारी है।

प्रदेश के कई जिलों में बाढ़

भोपाल,  गुना, रायसेन, सागर, जबलपरु, पचमढ़ी खजुराहो, नर्मदापुरम की निचली बस्तियां डूबीं

मध्यप्रदेश में भारी बारिश के चलते नर्मदा, बेतवा, शिप्रा, कालीसिंध, चंबल सहित सभी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हंै। उधर नर्मदा किनारे बसे कई गांवों में बाढ़ से हालात उत्पन्न हो गए हैं। उधर नदियों के साथ ही सभी बांध ओवरफ्लो हो गए हैं। बांधों के गेट खुलने से नदियों का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है।

3 संभागों में  अलर्ट

मौसम विभाग ने आज भोपाल, जबलपुर और सागर संभाग में अति बारिश का रेड अलर्ट जारी किया है तो वहीं नर्मदापुरम, डिंडौरी, बालाघाट, इंदौर, खंडवा, सतना, सीधी, शहडोल, कटनी में यलो अलर्ट है।

Share:

Next Post

एसिडिटी और गैस्ट्रिक समस्या से हो रही स्लीपडिस्क

Mon Aug 22 , 2022
शहर में सर्जन्स की कमी, नई तकनीक से 10 एमएम का होल कर कररहे डॉक्टर सर्जरी इंदौर। एसिडिटी, गैस्ट्रिक, अपच जैसी आमतौर पर बड़ी ही सामान्य समझी जाने वाली परेशानी किसी को जीवनभर का कमर दर्द दे सकती है। लॉकडाउन के बाद इस समस्या के पेशेंट बढ़ गए हैं, लेकिन उसकी तुलना में शहर में […]