जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

सेहत के लिए वरदान से कम नही है करेला, देता है कई कमाल के फायदें, आप भी जरूर जान लें

करेला एक ऐसी सब्जी है, जिसे पसंद और नापसंद करने वाले लोगों की संख्या लगभग बराबर ही होती है। लेकिन इस बात को सभी मानते हैं कि पेट से लेकर दिमाग तक शरीर के हर अंग को स्वस्थ रखने में करेला काफी मददगार साबित होता है। करेला एंटीबायोटिक और एंटीवायरल (Antibiotic and antiviral) गुणों से भरपूर होता है। इसमें पाए जाने वाला विटामिन- सी हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

करेले का वैज्ञानिक नाम लेटिन में मोर्डिका (mordica) एवं इसको अंग्रेजी भाषा में बिटर गॉर्डगोर्द नाम से जाना जाता है। इसके पौध में तना नहीं होता है, यह एक बेल के आकार की पौध होती है।जो हरे रंग की होती है। यह स्वाद में बेहद कड़वा होता है। एक अच्छी सब्जी होने के साथ−साथ करेले में दिव्य औषधीय गुण (medicinal properties) पाए जाते हैं। यह आकार में दो प्रकार के होते हैं बड़ा एवं छोटा करेला (Bitter gourd)। बड़े करेले गर्मियों के मौसम में जबकि छोटे करेले बारिश के मौसम में मिलते है। दरअसल इनका स्वाद बहुत कड़वा होता है, इसलिए अधिकांश लोग इसकी सब्जी को खाना पसंद नहीं करते हैं। इसके कड़वेपन को दूर करने के लिए नमक का इस्तेमाल किया जाता है।

करेले के औषधीय गुण
स्माल पॉक्स, चिकन पॉक्स तथा खसरे जैसे रोगों में करेले को उबालकर रोगी को दिया जाये तो यह बहुत लाभकारी होता है।


शुगर के रोगियों के लिए करेला एक वरदान के रूप में माना जाता है। उन्हें करेले का सेवन अधिक मात्रा में करना चाहिए। बिना कड़वापन दूर किए करेले की सब्जी तथा इसके पत्तों या कच्चे करेले का रस पूरी गर्मियों में लगातार, सुबह−शाम नियमित रूप से लेने पर रक्त में शर्करा का स्तर काफी कम हो जाता है।

करेले के प्रयोग से त्वचा में निखर आता है और किसी भी प्रकार के फोड़े−फुंसियों से निजात मिलती है।

मल को शरीर से बाहर निकलने में मदद करता है, इसके साथ ही यह शरीर के मूत्र मार्ग को भी साफ़ रख्नने में मदद करता है।

इसमें मौजूद विटामिन- ए (Vitamin A) की अधिक मात्रा होने से यह आँखों की रोशनी को बढाता है।

आँखों में होने वाली बीमारी रतौंधी (night blindness) से भी बचाता है, अगर इसके पत्तों का सेवन काली मिर्च के साथ किया जाये तो इस बीमारी से निजात मिलती है।

इसमें अधिक मात्रा में मौजूद विटामिन- सी (vitamin C) हमारे शरीर की नमी को बनाये रखता है।

करेले के सेवन से कब्ज (Constipation) की शिकायत नहीं होती है और यदि किसी व्यक्ति को कब्ज हो तो इससे कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है।

इसके साथ ही करेला एसिडिटी , छाती में जलन और खट्टी डकारों की समस्या भी दूर करता है।

यदि किसी व्यक्ति मलेरिया, पीलिया से ग्रस्त हो तो इसका सेवन बहुत लाभकारी होता है, रोगी को करेले के पत्तों या कच्चे करेले को पीसकर पानी में मिलाकर दिन में कम से कम तीन बार दिया जाये तो वह बहुत जल्दी ठीक हो सकता है ।

यदि किसी को दर्द और गठिया रोग हो तो वो करेले की सब्जी का सेवन दिन में तीन बार करे तो जल्दी फायदा मिलता है ।

यदि किसी को बवासीर की शिकायत है तो करेले को मिक्सी में पीसकर प्रभावित स्थान पर हल्के−हल्के हाथों से लेप लगाना चाहिए। यह लेप नियमित रूप से रात को सोने से पहले लगाएं। यदि किसी को खूनी बबासीर हो तो करेले के रस की एक चम्मच मात्रा में शक्कर मिलाकर पीने से खूनी बवासीर में लाभ मिलता है।

यह शरीर में उत्पन्न विषैले तत्वों को तथा अनावश्यक वसा को दूर करता है अतः यह मोटापा दूर करने में भी विशेष रूप से सहायक होता है ।

यदि शरीर में किसी भी अंग में जलन हो वहां करेले के पत्तों का रस लगाना चाहिए। अपनी शीतल प्रकृति के कारण यह तुरन्त लाभ देता है।

करेले का रस पेट के कीड़ों को भी दूर करने में लाभदायी होता है । इसमें मौजूद आयरन (लौह तत्व) की अधिकता के कारण करेला एनीमिया यानि खून की कमी को भी दूर करने में मदद करता है। करेले का रस तीनों दोषों अर्थात वात, पित्त और कफ दोष का नाश करता है।

नोट- उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्‍य सूचना उद्देश्‍य के लिए है इन्‍हें किसी चिकित्‍सक के रूप में न समझें। हम इसकी सत्‍यता की जांच का दावा नही करतें कोई भी सवाल या परेशानी हो तो विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें ।

Share:

Next Post

देश का पहला शहर जहां 24 घंटे आएगा पीने का साफ पानी, RO की नहीं जरूरत

Wed Jul 28 , 2021
  नई दिल्ली: पीने का साफ आज हर भारतीय के लिए संकट बना हुआ है. राजधानी दिल्ली से लेकर तमाम बड़े शहरों में आलम ये है कि हर घर में RO वॉटर प्यूरिफायर (RO Water Purifiers) लगवाना जरूरी हो गया है, क्योंकि बिना RO के पानी पीने लायक होता ही नहीं. RO से पीने के […]