देश मनोरंजन

दिलीप कुमार को हुआ Bilateral Pleural Effusion, हालत में सुधार

नई दिल्ली। बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर दिलीप कुमार (Dilip Kumar) को अस्पताल में भर्ती (Admited to Hospital) करवाया गया है. यह जानकारी खुद उनके ट्विटर अकाउंट से दी गई है. उनके फैंस यह खबर जानकर थोड़ा परेशान हो गए हैं. अब उनकी सेहत को लेकर हेल्थ अपडेट(Health Update) आया है. खबर आ रही है कि उनके फेफड़ों में पानी (lungs filled with water) भर गया है.
दिलीप कुमार (Dilip Kumar) बाइलिटरल प्ल्यूरल इफ्यूजन (bilateral pleural effusion) से जूझ रहे हैं जिसका मतलब है कि उनके फेफड़ों में पानी भर गया है. डाक्टर्स का कहना है कि दिलीप कुमार (Dilip Kumar) अभी वेंटिलेटर पर नहीं हैं और इसके साथ ही उन्हें आईसीयू में भी नहीं रखा गया है. अभी तो स्थिति ठीक है, लेकिन उम्र को देखते हुए ज्यादा कुछ नहीं कह सकते.
डॉक्टर ने बताया है कि दिलीप कुमार (Dilip Kumar) को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है क्योंकि उनका ऑक्सीजन लेवल गिर रहा था. लेकिन उनकी हालत में सुधार है. डॉक्टर्स का मानना है कि अगर उन्हें आईसीयू में नहीं रखा जाता है तो वो दो से तीन दिन में डिस्चार्ज हो जाएंगे.


आपको बता दें, दिलीप कुमार (Dilip Kumar) पिछले महीने भी अस्पताल में भर्ती हुए थे और दो दिन बाद उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया था.
इससे पहले दिलीप कुमार (Dilip Kumar Twitter) के ट्विटर से सायरा बानो ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि दिलीप साहब को रुटीन चेकअप के लिए नॉन कोविड पीडी हिंदुजा अस्पताल में भर्ती करवाया गया है, उन्हें पिछले कई दिनों से सांस लेने में तकलीफ थी. हिंदुजा अस्पताल में डॉ. नितिन गोखले की टीम उनकी देखभाल कर रही है. इसके साथ ही सायरा बानो ने फैन्स से अपील की थी कि साहब के लिए प्रार्थना करते रहिए और आप भी सुरक्षित रहिए.
दिलीप कुमार (Dilip Kumar Tweet) के ट्विटर अकाउंट से भी उनका हेल्थ अपडेट दिया गया है. ट्वीट में लिखा है कि, वॉट्सएप के फॉर्वर्ड मैसेजेस पर विश्वास ना करें. दिलीप साहब की हालत स्थिर है. आपकी दुआओं और प्रार्थनाओं का शुक्रिया. डॉक्टर्स का अनुसार, वो दो-तीन दिन में घर आ जाएंगे.

Share:

Next Post

Covishield में ज्यादा बनी एंटीबॉडी, देश के 12 राज्यों के 19 अस्पतालों में हुए अध्ययन

Mon Jun 7 , 2021
नई दिल्ली। फंगस और टीके को लेकर देश में पहली बार दो अलग-अलग अध्ययन सामने आए हैं। इनमें से 12 राज्यों के 19 अस्पतालों में हुए एक अध्ययन में खुलासा हुआ है कि जहां कोविशील्ड टीका लेने वालों में कोवाक्सिन लेने वालों की तुलना में एंटीबॉडी का स्तर अधिक मिला। ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों […]