बड़ी खबर

मध्य प्रदेश के रायसेन की शराब कंपनी में बाल श्रम के मामले में चार आबकारी अधिकारी निलंबित


भोपाल/रायसेन । मध्य प्रदेश के रायसेन की शराब कंपनी में (In liquor company of Raisen Madhya Pradesh) बाल श्रम के मामले में (In case of Child Labor) चार आबकारी अधिकारी निलंबित कर दिये गए (Four Excise Officers Suspended) । मुख्यमंत्री मोहन यादव के निर्देश पर यह कार्रवाई की गई है। कंपनी में 59 बाल मजदूर काम करते मिले थे।

बच्चों के लिए काम करने वाले एक गैर-सरकारी संगठन की शिकायत पर शनिवार को राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग की टीम सोम डिस्टलरी के प्लांट पर पहुंची थी। वहां 59 बाल मजदूर काम करते मिले। रेस्क्यू किये गये बच्चों में लड़कियां भी शामिल हैं। शराब कंपनी में काम करने वाले कई बच्चों की हाथों की खाल तक निकल गई थी।

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के निर्देश पर आबकारी आयुक्त ने प्रभारी जिला आबकारी अधिकारी कन्हैयालाल अतुलकर और विभाग के तीन उप निरीक्षक प्रीति शैलेंद्र उईके, शेफाली वर्मा और मुकेश कुमार को निलंबित कर दिया है। मुख्यमंत्री ने इस मामले को बेहद गंभीर मानते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि रायसेन जिले में फैक्ट्री पर छापे के दौरान बाल श्रम का मामला “मेरे संज्ञान में आया है। यह बेहद गंभीर है। इस संबंध में श्रम, आबकारी और पुलिस विभाग के अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की है और समुचित कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। दोषियों के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी”।

Share:

Next Post

चुनाव आयोग ने EVM हैकिंग के आरोप को किया खारिज, कहा- किसी से कनेक्ट नहीं...

Sun Jun 16 , 2024
नई दिल्ली: चुनाव आयोग (Election Commission) ने महाराष्ट्र में ईवीएम हैकिंग के आरोप (Allegations of EVM hacking in Maharashtra) को पूरी तरह से खारिज कर दिया है. महाराष्ट्र में आरोप लगे हैं कि ईवीएम को मोबाइल फोन से कनेक्ट किया गया था. महाराष्ट्र में चुनाव आयोग की रिटर्निंग ऑफिसर वंदना सूर्यवंशी ने रविवार को प्रेस […]