विदेश

हमास ने Ismail Haniya को फिर चुना अपना सर्वोच्च नेता, पद पर रहेंगे चार साल

गाजा सिटी। इस्लामी चरमपंथी समूह (Islamic extremist group) हमास(Hamas) ने कहा कि उसने इस्माइल हनिया (Ismail Haniya) को फिर से अपना सर्वोच्च नेता चुना (elected supreme leader) है। इस्लामी समूह में निर्णय लेने वाली शीर्ष इकाई ने बताया कि इस्माइल हनिया (Ismail Haniya) को शुरा परिषद (shura council) ने चार साल के लिए एक नया कार्यकाल दिया गया है। वह निर्विरोध चुने गए। हनिया दो साल से निर्वासन में हैं। वह हमास के संस्थापक अहमद यासीन के पूर्व सहयोगी हैं।
यासीन की वर्ष 2004 में इस्राइल के एक हवाई हमले में हत्या कर दी गई थी। वह वह 2006 के चुनाव में हमास के संसदीय चुनाव जीतने के बाद फलस्तीनी के प्रधानमंत्री के तौर पर सेवा दे चुके हैं।


हनिया ने 2017 में हमास प्रमुख चुने जाने से पहले समूह के गढ़ गाजा में हमास के नेता के तौर पर सेवा दी थी। 2019 में गाजा छोड़ कर चले गए हनिया ने अपना समय तुर्की और कतर में बिताया। हालांकि, उन्होंने नहीं कहा है कि वह कब लौटेंगे।
हमास एक इस्लामी आंदोलन है, जो इस्राइल की तबाही चाहता है। साल 2007 में गाजा पर कब्जे के बाद से समूह ने इस्राइल के खिलाफ कई लड़ाइयां लड़ी हैं। हाल ही में मई में लड़ाई हुई थी। बार-बार की गई लड़ाईयों ने गाजा की अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया है। यहां लगभग 50 प्रतिशत बेरोजगारी है।

Share:

Next Post

सबसे तेज गति से आगे बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था

Mon Aug 2 , 2021
– प्रह्लाद सबनानी कोरोना महामारी के कारण उत्पादों की दबी हुई मांग में पुनः संचार दिखाई दे रहा है। केंद्र सरकार द्वारा विवेकाधीन खर्च में बढ़ोतरी की जा रही है। साथ ही देश में अब तेजी से चल रहे कोरोना के टीकाकरण से भी देश की अर्थव्यवस्था को बल मिलेगा। कोरोना महामारी की दूसरी लहर […]