भोपाल न्यूज़ (Bhopal News)

विधानसभा चुनाव के लिए माननीय बहा रहे पसीना

  • चुनाव में अपने आप को फिट दिखाने कर रहे कसरत

भोपाल। मध्यप्रदेश में 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले माननीय खुद को फिट बनाने की कसरत में जुटे हुए हैं। विधायकों ने जिम और सड़क पर दौड़ लगाकर पसीना बहाना शुरू कर दिया है। विधायकों को फिट करने के लिए विधानसभा की तरफ से भोपाल में विधायक विश्राम गृह में ओपन जिम बनाया गया है। ओपन जिम में खुद विधानसभा के स्पीकर गिरीश गौतम कसरत करते हुए नजर आए। इतना ही नहीं सिंगरौली से बीजेपी विधायक राम लल्लू वैश्य, टीकमगढ़ से विधायक राकेश गिरी भी अब ओपन जिम में पसीना बहाते हुए नजर आ रहे हैं।
विधायकों की कोशिश है कि 2023 के चुनाव से पहले खुद को फिट किया जाए और जहां जिसे मौका मिल रहा है, वहां वह फिटनेस कैंप लगा रहा है। बीजेपी विधायक राम लल्लू वैश्य ने कहा कि रोजाना की दौड़ भाग में उन्हें कसरत के लिए समय नहीं मिलता है, लेकिन अगले साल विधानसभा का चुनाव है और वह चाहते हैं कि उससे पहले खुद को फिट करें। इसलिए विधायक विश्रामगृह में बने ओपन जिम में वह खुद को फिट करने में लगे हैं।


कांग्रेस के विधायक इस तरह कर रहे हैं कसरत
दूसरी तरफ कांग्रेस विधायक अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा को कड़ी टक्कर देने के लिए राहुल गांधी के साथ दौड़ते भागते पसीना बहाते हुए नजर आ रहे हैं। राहुल गांधी की यात्रा के प्रभारी विधायक पीसी शर्मा का कहना है उन्होंने राहुल गांधी के साथ एक-दो दिन छोड़ बाकी सभी दिनों में पदयात्रा की है, जो उन्हें फिट बना रही है। भोपाल में वह जिम नहीं जाते हैं, लेकिन राहुल गांधी की यात्रा में चलकर खुद को फिट बनाकर चुनाव के लिए परफेक्ट बनने की कोशिश में जुटे हैं।

एमएलए रेस्ट हाउस में ओपन जिम
अगले साल विधानसभा का चुनाव होना हैं। चुनाव से पहले घर-घर दस्तक देने के लिए माननीय खुद को फिट करने में लगे हैं। यही कारण है कि कोई पैदल चलकर अपना स्टेमिना बढ़ा रहा है, तो कोई जिम में पसीना बहा कर खुद को फिट बनाने में लगे हैं। विधायकों की सुविधा के लिए विधानसभा विश्राम गृह में ओपन जिम की शुरुआत हुई है, लेकिन दूसरे विधायकों को भी जिम में आने के लिए प्रेरित करने के लिए एक और ओपन जिम बनाने की तैयारी है। विधानसभा चुनाव में जनता के फिटनेस के पैमाने पर जो फिट साबित होगा, वही जीतेगा लेकिन जनता तक अपनी बात पहुंचाने के लिए माननीय का फिट होना भी बेहद जरूरी है।

Share:

Next Post

प्रदेश के 32 जिलों के आदिवासी रहेंगे पावरलेस

Thu Dec 1 , 2022
पेसा एक्ट से 20 जिलों के 89 ब्लॉक में ही हुआ है लागू भोपाल। विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश की राजनीति आदिवासियों पर आकर टिक गई है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के प्रदेश में प्रवेश से पहले सरकार ने 15 नवंबर को आदिवासियों को पावरफुल बनाने के लिए पेसा एक्ट (पंचायत एक्सटेंशन टू […]