टेक्‍नोलॉजी

इंटरनेट पर आपकी तहकीकात नहीं कर पाएंगी खूफिया साइट्स, गूगल लगाएगा लगाम

डेस्क: आपने कभी नोटिस किया कि जब आप ऑनलाइन कुछ सर्च करते हैं तो बाद में उससे जुड़े एड भी दिखने लगते हैं. मान लीजिए आपने स्मार्टवॉच के बारे में सर्च किया तो इंटरनेट पर स्मार्टवॉच से जुड़े एड की भरमार हो जाती है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब आप कुछ सर्च करते हैं तो एड वेबसाइट्स की नजर उस पर रहती है. कुकीज के जरिए के जरिए वो आपकी एक्टिविटी को ट्रैक करती हैं, और फिर एड दिखाती हैं. मगर गूगल ने इससे निपटने के लिए अगले साल से थर्ड पार्टी कुकीज को बंद करने का फैसला किया है.

गूगल ने ऐलान किया कि 4 जनवरी 2024 से थर्ड पार्टी कुकीज को सपोर्ट नहीं मिलेगी. करीब 1 फीसदी यानी 3 करोड़ क्रोम डेस्कटॉप यूजर्स के लिए इस सपोर्ट को बंद किया जाएगा. थर्ड पार्टी कुकीज वे कुकीज हैं जो किसी दूसरी साइट से आती हैं जिसे आप देख रहे हैं. उदाहरण के लिए जब आप किसी वेबसाइट पर जाते हैं तो वहां एड दिखते हैं.

एडवर्टाइजर्स उस वेबसाइट पर थर्ड पार्टी कुकीज सेट कर सकते हैं. ये कुकीज आपके ब्राउजर में रहती हैं और जब आप दूसरी वेबसाइट्स पर जाते हैं तो भी आपके बारे में जानकारी इकट्ठा कर सकती हैं.


थर्ड पार्टी कुकीज बंद करने से क्या होगा?

जब गूगल थर्ड पार्टी कुकीज के इस्तेमाल को बंद कर देगा तो एड साइट्स ये काम नहीं कर पाएंगी-

  • आपके लिए एड को टारगेट करना: थर्ड पार्टी कुकीज का इस्तेमाल करके एडवर्टाइजर्स आपके बारे में जानकारी इकट्ठा कर सकते हैं और फिर आपको उसी से जुड़े प्रोडक्ट्स और सर्विस के एड दिखा सकते हैं. थर्ड पार्टी कुकीज सपोर्ट खत्म होने पर ये काम बंद हो जाएगा.
  • आपकी ऑनलाइन एक्टिविटी को ट्रैक करना: थर्ड पार्टी कुकीज का इस्तेमाल करके वेबसाइट्स आपकी ऑनलाइन एक्टिविटी को ट्रैक कर सकती हैं. ये साइट्स देख सकती हैं कि आपने किन प्रोडक्ट्स या सर्विस में रुचि दिखाई है, और फिर उससे रिलेटेड सामान का एड दिखा सकते हैं. ये भी बंद हो जाएगा.
  • आपकी ब्राउजिंग हिस्ट्री को ट्रैक करना: थर्ड पार्टी कुकीज का इस्तेमाल करके वेबसाइटें आपके ब्राउज़िंग इतिहास को ट्रैक कर सकती हैं. उदाहरण के लिए, वे यह देख सकते हैं कि आपने किन वेबसाइटों पर जाया है, और फिर उसी या समान वेबसाइटों के एड दिखा सकते हैं.

गूगल के ऐलान से आपको मिलेंगे ये फायदे

  • प्राइवेसी सुधरेगी: थर्ड पार्टी कुकीज का इस्तेमाल करके यूजर्स की प्राइवेसी का उल्लंघन किया जा सकता है. गूगल के ऐलान से थर्ड पार्टी कुकीज का इस्तेमाल बंद होगा और यूजर्स की प्राइवेसी के साथ छेड़खानी करना मुश्किल हो जाएगा.
  • एड सेट करने में कमी: थर्ड पार्टी कुकीज का इस्तेमाल करके एड को सेट करना थोड़ा मुश्किल होगा. हालांकि, गूगल का फर्स्ट पार्टी कुकीज सपोर्ट काम करता रहेगा और लोगों को उनकी पसंद के अनुसार एड दिखाएगा.
  • ऑनलाइन ट्रैकिंग में कमी: थर्ड पार्टी कुकीज का इस्तेमाल करके ऑनलाइन ट्रैकिंग करना मुश्किल होगा. इससे यूजर्स को ऑनलाइन ट्रैक किए जाने की संभावना कम हो जाएगी.

गूगल का ऐलान एक जरूरी कदम है जो यूजर्स की प्राइवेसी और सिक्योरिटी को बेहतर बनाने में मदद करेगा. हालांकि, यह ध्यान रखना जरूरी है कि थर्ड पार्टी कुकीज का इस्तेमाल करके यूजर्स की प्राइवेसी और सिक्योरिटी को बेहतर बनाने के लिए दूसरे तरीकों की भी जरूरत है. उदाहरण के लिए यूजर्स को अपने ब्राउजर में थर्ड पार्टी कुकीज को डिसेबल यानी बंद कर देना चाहिए.

क्या एड दिखना बंद हो जाएंगे?

गूगल दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है जिसका मेन बिजनेस एडवर्टाइजमेंट है. अब अगर लोगों की ऑनलाइन ट्रैकिंग को बंद कर दिया जाएगा, तो उनकी पसंद-नापसंद के बारे में कैसे पता चलेगा. इसलिए ध्यान रहे कि थर्ड पार्टी कुकीज को बंद करने से इंटरनेट पर एड दिखने बंद नहीं हो जाएंगे.

पहले से ही कई एडवर्टाइजर्स फर्स्ट पार्टी कुकीज या दूसरी एडवर्टाइजिंग टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं जो थर्ड पार्टी कुकीज पर निर्भर नहीं करती हैं.

Share:

Next Post

9 टावर-4500 ऑफिस, PM मोदी ने किया दुनिया की सबसे बड़ी ऑफिस बिल्डिंग का उद्घाटन

Sun Dec 17 , 2023
सूरत: दुनिया की रत्न राजधानी मानी जाने वाली सूरत को आज पीएम ने दो बड़ी सौगात दी है. पीएम मोदी ने रविवार को सूरत एयरपोर्ट पर नए टर्मिनल भवन का उद्घाटन किया, इसके बाद दुनिया के सबसे बड़े कार्यालय भवन सूरत डायमंड बोर्स यानी एसडीबी देश को समर्पित किया. इस भवन की खासियत है कि […]