मनोरंजन

मां की हत्या की, वीडियो बनाया और फिर शराब पी… एक्टर को उम्रकैद की सजा

मुंबई। नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज ‘रिवरडेल’ के एक्टर रयान ग्रांथम (Ryan Grantham) अपनी मां की हत्या के दोषी करार दिए गए हैं। उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। 24 वर्षीय कनाडाई एक्टर ने 2020 में मां की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वह उस वक्त कनाडा के स्क्वामिश स्थित अपने घर में थे जहां उनके साथ 64 वर्षीय उनकी मां बारबरा वाइट भी थीं। रयान ने कोर्ट में गुनाह को कबूल करते हुए माना कि उन्होंने अपनी मां की हत्या की है। कोर्ट ने उन्हें बिना परोल के 14 साल तक जेल में रहने की सजा दी। वह जिंदगी में दोबारा बंदूक का इस्तमाल नहीं कर सकते।

मां की हत्या का वीडियो बनाया
सीबीएस न्यूज के अनुसार, रयान ने पियानो बजाते समय अपनी मां बारबरा वाइट के सिर में गोली मारी। कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें मामले में सजा दी। रयान ने कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को मारने की भी साजिश रची थी। रयान ने हत्या के बाद कैमरे से वीडियो बनाया। वीडियो बनाते वक्त उन्होंने कहा था, ‘मैंने उन्हें सिर के पिछले हिस्से में गोली मार दी। हालांकि उन्हें पता चल गया कि वो मैं ही था।‘

हत्या के बाद शराब और गांजे का किया सेवन
हत्या के बाद रयान ने घंटों तक शराब और गांजे का सेवन किया। अगले दिन वह अपनी गाड़ी में 3 बंदूकें, गोला-बारूद, 12 मोलोटोव कॉकटेल के साथ कनाडा के प्रधानमंत्री की हत्या के लिए निकल पड़े। 200 किलोमीटर तक रयान ने तेज गति से गाड़ी चलाई और फिर वैंकूवर पुलिस स्कूल पहुंचकर अधिकारी को बताया कि ‘मैंने अपनी मां को मार डाला।‘ रयान पिछले ढाई साल से कस्टडी में हैं। कोर्ट में सुनवाई के दौरान उनके वकील ने कहा कि वह चिंता और डिप्रेशन से जूझ रहे थे। मां की हत्या के पीछे यह एक बड़ा कारण था।

छोटी उम्र से किया काम
रयान ने बाल कलाकार के तौर पर भी काम किय। उन्होंने नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज ‘रिवरडेल’ में काम किया। इसके अलावा साल 2010 में फिल्म ‘डायरी ऑफ अ विम्पी किड’ में भी नजर आए।

Share:

Next Post

सपा ने किया विधानसभा की कार्यवाही का बहिष्कार

Fri Sep 23 , 2022
लखनऊ । उत्तर प्रदेश विधानसभा में (In the Uttar Pradesh Legislative Assembly) समाजवादी पार्टी (SP) ने विधानसभा की कार्यवाही (Proceedings of the Assembly) का बहिष्कार कर (Boycotted) वॉकआउट किया (Did Walkout) । सपा के सदस्यों को विधानसभा में इलाहाबाद विश्वविद्यालय में भारी शुल्क वृद्धि को लेकर छात्रों के आंदोलन का मुद्दा उठाने की अनुमति नहीं […]