उत्तर प्रदेश देश

UP विधानसभा में लागू हुए नए नियम, सदन में मोबाइल नहीं ले जा सकेंगे विधायक

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र (Winter session of Uttar Pradesh Assembly) 28 नवंबर से शुरू होने वाला है. 66 साल बाद योगी सरकार (yogi government) में विधानसभा सत्र नए नियमों के साथ ऑपरेट (operate with new rules) किया जाएगा. दरअसल, विधानसभा के पिछले सत्र में ही बदलावों को अनुमति दी गई थी, जिसके बाद अब इन नए बदलावों को लागू किया जा रहा है. इसके तहत सदन में नेताओं के मोबाइल ले जाने पर बैन (Ban on carrying mobile phone) रहेगा. बिना मोबाइल के ही सदन में एंट्री मिलेगी. साथ ही साथ सदन में झंडा और बैनर ले जाने की भी अनुमति नहीं रहेगी.

इस सत्र के दौरान महिलाओं को खास वरीयता दी जाएगी क्योंकि यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार का नारी शक्तिकरण के लिए संकल्प भी है. बताया जा रहा है कि सत्र के दौरान महिला सदस्यों को बोलने के लिए खास वरीयता मिलेगी. सत्र के पहले दिन सदन के मौजूदा और पूर्व सदस्यों के निधन पर शोक व्यक्त किया जाएगा.


इसके बाद 29 नवंबर से सदन का कार्यवाही सुचारू रूप से शुरू होगी. इस दिन प्रथम पहर के दौरान अध्यादेशों, अधिसूचनाओं, नियमों आदि को सदन के पटल पर रखा जाएगा. इसके अलावा विधेयकों का दोबारा स्थापन कार्य किया जाएगा. जानकारी के मुताबिक, दोपहर साढ़े 12 बजे के बाद वित्तीय वर्ष 2023-24 के अनुपूरक अनुदानों की मांगों का प्रस्तुत किया जाएगा. साथ ही साथ अन्य विधायी कार्य निपटाया जाएगा.

बताया गया है कि शीतकालीन सत्र के तीसरे दिन यानी 30 नवंबर को वित्तीय वर्ष 2023-24 के अनुपूरक अनुदानों पर चर्चा की जाएगी, जिसमें सत्तापक्ष और विपक्ष में तीखी नोकझोंक देखने को मिल सकती है. इस दौरान विधायकों की मांगों पर विचार व वोटिंग की जा सकती है. साथ ही विनियोग विधेयक का सदन की अनुमति से दोबारा स्थापन का कार्य किया जाएगा. वहीं शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन 1 दिसंबर को विधायी कार्य निपटाए जाएंगे.

Share:

Next Post

अगरिया किसान सौर ऊर्जा से नमक उप्‍तादन कर रहे हैं गुजरात में कच्छ के छोटे रण में

Sat Nov 25 , 2023
अहमदाबाद । गुजरात में कच्छ के छोटे रण में (In the Little Rann of Kutch in Gujarat) अगरिया किसान (Agria Farmers) सौर ऊर्जा से (With Solar Energy) नमक उप्‍तादन कर रहे हैं (Are Producing Salt) । गुजरात में कच्छ के छोटे रण (एलआरके) के सूखे इलाके में, अगरियाओं के बीच एक शांत क्रांति हो रही […]