विदेश

उत्तर कोरिया में अब घरों में कैद हुए लोग, तानाशाह ने इस वजह से लगा दिया लॉकडाउन

नई दिल्ली: उत्तर कोरिया (North Korea) में इस बार एक अजीब रहस्यमयी बीमारी ने दस्तक दी है, जिसकी वजह से लोग अब अपने घरों में कैद होने को मजबूर कर दिए गए हैं. उत्तर कोरिया में इन दिनों सांस की बीमारी से ग्रसित मरीजों में लागातार इजाफा हो रहा है. यही वजह है कि किम जोंग उन की सरकार ने एक एडवाइजरी जारी की है और राजधानी में पांच दिनों तक लॉकडाउन लगा दिया है.

उत्तर कोरिया की घटनाओं पर नजर रखने वाली न्यूज वेबसाइट एनके न्यूज ने बताया कि उत्तर कोरिया की तानाशाह सरकार ने अपनी एडवायजरी में लोगों से रविवार तक घरों में रहने और हर रोज दिन में कई बार तापमान जांच करने और उसका रिकॉर्ड रखने को कहा है. बताया जा रहा है कि सांस की समस्याग्रस्त मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए यह फैसला लिया गया है.

सरकारी नोटिस के मुताबिक, उत्तर कोरिया के अधिकारियों ने सांस की बीमारी के बढ़ते मामलों के कारण प्योंगयांग के निवासियों के लिए पांच दिनों के लॉकडाउ का आदेश जारी किया है. लॉकडाउन की शुरुआत आज यानी बुधवार से हो रही है. इस आदेश के जारी होने के तुरंत बाद लोग बाजारों की ओर दौड़े और आवश्यक वस्तुओं का स्टॉक करते दिखे. नोटिस में कहा गया है कि लोगों को सख्ती से लॉकडाउन का पालन करना होगा.

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया कि प्योंगयांग निवासी लॉकडाउन की अग्रिम चेतावनी मिलने के बाद सामानों का स्टॉक करते दिखाई दिए. नए नोटिस में कहा गया है कि वर्तमान में राजधानी में फैल रही बीमारियों में सामान्य सर्दी शामिल है मगर इसमें कोरोना का उल्लेख नहीं किया गया है. नोटिस में कहा गया है कि निवासियों को रविवार तक अपने घरों में रहना होगा और दिन में कई बार तापमान की जांच करनी होगी. हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि क्या अन्य शहरों को भी लॉकडाउन के तहत रखा जा रहा है और राज्य मीडिया ने अभी तक नए उपायों की घोषणा नहीं की है.

Share:

Next Post

Mohammed Siraj पहली बार बने वनडे के नंबर-1 गेंदबाज, 12 महीने पहले हुई थी टीम इंडिया में वापसी

Wed Jan 25 , 2023
नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम को 2 दिन में दो खुशखबरी मिली है. एक दिन पहले न्य़ूजीलैंड को इंदौर वनडे में हराकर टीम इंडिया वनडे की नंबर-1 टीम बनी थी और उसके अगले ही दिन भारत को एक और गुड न्यूज मिली. पेसर मोहम्मद सिराज वनडे के नंबर-1 गेंदबाज बन गए हैं.उन्होंने न्यूजीलैंड के तेज […]