विदेश

इंसान के शरीर में धड़का सूअर का ‘दिल’, अमेरिका में दूसरी बार हुआ यह कारनामा

वाशिंगटन: अमेरिका में डॉक्‍टरों ने बड़ा कारनामा कर दिखाया है. इस सप्ताह 58 वर्षीय एक व्यक्ति का सफल हार्ट ट्रांसप्‍लांट किया गया. इस हार्ट ट्रांसप्‍लांट में मरते हुए शख्स के शरीर में सूअर का दिल प्रत्यारोपित किया गया. यह दुनिया में अब तक का दूसरा मौका है, जब किसी इंसान के शरीर में सूअर का अंग लगाया गया हो. डॉक्टरों का कहना है कि यह मेडिकल फील्ड में नया मील का पत्थर साबित होगा.

न्यूज एजेंसी AFP के अनुसार, जानवरों के अंगों को इंसानों में ट्रांसप्‍लांट करना जिसे ज़ेनोट्रांसप्लांटेशन कहा जाता है, मानव अंग दान की पुरानी कमी का समाधान प्रदान कर सकता है. वर्तमान में 1 लाख से अधिक अमेरिकी ऑर्गन ट्रांसप्लांट के लिए वेटिंग लिस्ट में है. ऑपरेशन से पहले यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड ने शुक्रवार को एक बयान में कहा था कि दोनों हार्ट ट्रांसप्‍लांट यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड स्कूल ऑफ मेडिसिन के विशेषज्ञों द्वारा की गईं.


यूनिवर्सिटी ने आगे कहा कि इसमें पहले मरीज की पिछले साल ट्रांसप्‍लांट के दो महीने बाद उसकी खराब स्वास्थ्य स्थिति सहित कई कारकों के कारण मौत हो गई. अब यह नया ऑपरेशन बुधवार को हुआ, जिसमें मरीज लॉरेंस फॉसेट पहले से मौजूद वैस्कुलर बीमारी और आंतरिक रक्तस्राव जैसी जटिलताओं के कारण दान किए गए इंसानी हार्ट के लिए अयोग्य थे. दो बच्चों के पिता फॉसेट हार्ट फेलियर का सामना कर रहे थे.

विश्वविद्यालय ने कहा कि फॉसेट अपने दम पर सांस ले रहे हैं और नया हार्ट सहायक उपकरणों की सहायता के बिना अच्छी तरह से काम कर रहा है. वह अपने शरीर को नए अंग को नुकसान पहुंचाने या अस्वीकार करने से रोकने के लिए पारंपरिक एंटी-रिजेक्शन दवाएं ले रहे हैं और साथ ही एक नई एंटीबॉडी थेरेपी भी ले रहे हैं. डॉक्टरों के अनुसार, वह ठीक हो रहे हैं और अपने परिवार के लोगों से बात भी कर रहे हैं. वहीं डॉक्टरों को उम्मीद है कि इस तकनीक में सफलता के बाद एक लाख से अधिक अमेरिकियों को जीने के लिए नई उम्मीद मिलेगी.

Share:

Next Post

चंद्रमा की सतह पर ठीक से नहीं छपा अशोक स्तंभ और इसरो का लोगो, लेकिन वैज्ञानिक खुश

Sun Sep 24 , 2023
बेंगलुरु: चंद्रयान-3 का रोवर प्रज्ञान, जिसके पिछले पहियों पर भारत का राष्ट्रीय प्रतीक अशोक स्तंभ और इसरो का लोगो बना हुआ है, चंद्रमा की धरती पर इन दोनों की ‘स्पष्ट’ छाप छोड़ने में असमर्थ रहा है. वैज्ञानिकों की मानें तो यह एक अच्छा संकेत है. यह चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में मिट्टी के गुणों […]