बड़ी खबर

75वें गणतंत्र दिवस के चीफ गेस्ट राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों भारत पहुंचे, आमेर किले में हुआ जोरदार स्वागत

नई दिल्ली: फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने के लिए भारत पहुंचे हैं. वह गुरुवार (25 जनवरी) को जयपुर पहुंचे, जहां विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर, राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा और राज्यपाल कलराज मिश्र ने जयपुर में उनका स्वागत किया. फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों 75वें गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि हैं.

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने आमेर किले का दौरा किया, जहां उनका जोरदार स्वागत किया गया. उनके साथ विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर और राजस्थान की डिप्टी सीएम दीया कुमारी भी मौजूद हैं. इसके बाद इमैनुएल मैक्रों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रोड शो करेंगे. यह दौरा ऐसे समय में हो रहा है, जब फ्रांस की सरकार और भारत फ्रांस के लड़ाकू विमान और पनडुब्बियों के लिए बातचीत कर रही है.


न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पीएम मोदी उनके जंतर-मंतर के दौरे में शामिल होंगे. इसके बाद दोनों नेता जंतर-मंतर से सांगानेरी गेट तक एक साथ रोड कर हवा महल जाएंगे. शाम को दोनों नेता होटल रामबाग पैलेस में मीटिंग करेंगे.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों दौरे को लेकर जयपुर पुलिस ने ट्रैफिक को लेकर एडवाइजरी भी जारी की है. जयपुर ट्रैफिक पुलिस की एडवाइजरी के अनुसार आगरा रोड से आने वाले वाहनों को रोटरी सर्किल से डायवर्ट कर जवाहर नगर बाइपास से गुरजने के लिए कहा गया है. इसके अलावा जेएलएन मार्ग से रामनिवास बाग की ओर आने वाले वाहनों को आरोग्य पथ से डायवर्ट किया जाएगा.

अधिकारियों ने वाहन चालकों को झालाना बाइपास और टोंक रोड की ओर जाने से बचने की सलाह दी है. चारदीवारी के अंदर सभी प्रमुख सड़कों पर दोपहर 2 बजे से कम से कम शाम 7 बजे तक यातायात प्रतिबंध रहेगा. छोटी चौपड़ से त्रिपोलिया बाजार होते हुए बड़ी चौपड़ के बीच यातायात की आवाजाही बंद रहेगी.

Share:

Next Post

भूकंप से कांपा चीन का शिनजियांग प्रांत, इतनी तीव्रता पर डोली धरती

Thu Jan 25 , 2024
बीजिंग। बीते 72 घंटे में चीन का शिनजियांग प्रांत दूसरी बार भूकंप के झटकों से हिल गया है। भूकंप ऐसे वक्त में आया जब सुबह लोग अपने दिनचर्या में लगे हुए थे। अचानक धरती हिचकोले लेने लगी। इससे लोगों में दहशत फैल गई। लोग अपनी जान बचाने के लिए खुले स्थानों की ओर भागने लगे […]