देश मध्‍यप्रदेश

BJP से रोशनी यादव का इस्तीफा, भाजपा पर लगाया कार्यकर्ताओं की उपेक्षा करने का आरोप

निवाड़ी। भाजपा (BJP) जिला उपाध्यक्ष (vice president) एवं जिला पंचायत सदस्य रोशनी यादव (Roshni Yadav) ने पार्टी (Party) में अपनी उपेक्षा के चलते पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा (resign) दे दिया है. इसके साथ ही उन्होंने भाजपा (BJP) को छोड़ अब कांग्रेस (Congress) में जाने का मन बना लिया है. रोशनी यादव ने अपना एक वीडियो (Video) जारी करते हुए कहा कि “भाजपा की रीति, नीति और नेतृत्व से वो काफी समय से नाखुश हैं. रोशनी का कहना है कि भाजपा सिर्फ महिलाओं (Women) को ठगने का काम करती है. जनता में प्रदेश और केंद्र के नेतृत्व दोनों से नाराजगी है, जिस दल से जानता खुश नहीं है, उससे जुड़कर भला सेवा का कार्य कैसे हो सकता है.”

रोशनी ने कहा “क्षेत्र की जनता और कार्यकर्ता दोनों का आपार समर्थन और स्नेह मेरे साथ है. अब रोशनी यादव निवाड़ी में सत्ता से उपेक्षित भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ जल्द ही कांग्रेस ज्वाइन करेंगे. प्राप्त जानकारी के अनुसार निवाड़ी जिले की निवाड़ी विधानसभा में सत्ता और संगठन के बीच तालमेल न बैठ पाने के कारण बहुत से नेता पदाधिकारी और कार्यकर्ता दुखी हैं.” रोशनी यादव ने बताया कि “मेरे राजनीतिक सफर में कई अनुभव मुझे भाजपा में रहते मिला. जिसके लिए मैं आजीवन आभारी रहूंगी, लेकिन गत कुछ महीनों से शीर्ष नेतृत्व का कार्यकर्ताओं के प्रति निराशा, नीति और नेतृत्व में उदासीनता, महिलाओं के प्रति दिखावटी योजना एवं उनके प्रति बढ़ते अत्याचार को देखकर मैं आहत हूं. भाजपा की सदस्य होकर रोजाना जनता से उठ रहे बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महंगाई के सवालों का उत्तर देने में असमर्थ हूं. कार्यकर्ता केंद्रित दल अब नेता केन्द्रित है.”


बता दें रोशनी कांग्रेस नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व राज्यपाल राम नरेश यादव की पुत्रवधु हैं, इसलिए इन्हे विरासत में राजनीति प्राप्त है. जिसका उन्हें अच्छा अनुभव है. उन्होंने कहा “जनता का ना प्रदेश सरकार में विश्वास है और ना केंद्र सरकार पर, जिस दल से जनता खुश नहीं है. उस दल में रहकर सेवा नहीं की जा सकती है. भाजपा सरकार में भाजपा संगठन के ही कार्यकर्ताओं की अनदेखी और उनके साथ द्वैत व्यवहार के चलते प्रदेश में भाजपा की लगातार छवि खराब हो रही है. रोशनी ने बताया कि भाजपा कार्यकर्ता जब भी संगठन के उच्च अधिकारियों से या सरकार के मंत्रियों और नेताओं से अपनी समस्या साझा करते हैं, तो मंत्री और नेता व पदाधिकारी निराकरण को दूर उनकी बात तक नहीं सुनते. कार्यकर्ताओं की इस स्तर की उपेक्षा से मैं आहत हूं. निवाड़ी की जनता लगातार भाजपा शासन में स्वयं को पीड़ित महसूस कर रही हैं, चूंकि जनता की पीड़ा मेरी अपनी भी पीड़ा है. इसलिए नेतृत्व को अपना इस्तीफा सौप रही हूं.”

Share:

Next Post

भारत में लगभग 60 प्रतिशत भूमि मिट्टी के कटाव का सामना करती है - आईआईटी ने की रिसर्च

Tue Aug 22 , 2023
नई दिल्ली । आईआईटी की रिसर्च से (Research by IIT) पता चला कि भारत में (In India) लगभग 60 प्रतिशत भूमि (About 60 Percent of Land) मिट्टी के कटाव का सामना करती है (Faces Soil Erosion) । देश के 305.9 मिलियन हेक्टेयर के कुल क्षेत्रफल में से लगभग 145 मिलियन हेक्टेयर भूमि को तत्काल संरक्षण […]