बड़ी खबर

जब्त करें चुनाव चिंह, रद्द करें दलों के पंजीयन, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और चुनाव आयोग से मांगा जवाब

नई दिल्ली। राजनीतिक दलों द्वारा मतदाताओं को रिझाने के लिए सरकारी कोष से अतार्किक मुफ्त ‘उपहारों’ के वादे के खिलाफ दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और निर्वाचन आयोग को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

शीर्ष कोर्ट में दायर एक जनहित याचिका में ऐसे राजनीतिक दलों का पंजीकरण रद्द व उनके चुनाव चिंह जब्त करने की मांग की गई है, जो मतदाताओं को मुफ्त में सुविधाएं देने के वादे कर रहे हैं। पांच राज्यों के मौजूदा चुनावों में भी कई दलों ने आम वोटरों को बिजली व अन्य सुविधाएं मुफ्त में देने का वादा किया है।

किसान की कर्जमाफी तो हर चुनाव में बड़ा चुनावी आकर्षण रहा है। प्रधान न्यायाधीश एनवी रमण की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने भाजपा नेता एवं वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय द्वारा दायर इस याचिका पर केंद्र सरकार और निर्वाचन आयोग को चार हफ्ते में जवाब दाखिल करने के लिए कहा है। हालांकि पीठ ने याचिका में चुनिंदा राज्यों व राजनीतिक दलों का जिक्र करने पर आपत्ति जताई है।

Share:

Next Post

अब मथुरा मंदिर का उद्धार करेगी भाजपा

Tue Jan 25 , 2022
मथुरा। उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा का संकल्प इस बार बदला-बदला नजर आएगा। दोबारा सत्ता में वापसी को लेकर भाजपा के संकल्प पत्र में अयोध्या में भव्य राम मंदिर की तर्ज पर मथुरा में भव्य श्रीकृष्ण मंदिर बनाने का भी जिक्र होगा। भाजपा द्वारा जारी संकल्प पत्र में राम मंदिर और काशी कॉरिडोर की तरह […]