देश

सिद्धारमैया ने बेंगलुरु में मुख्यमंत्री के लिए जीरो ट्रैफिक प्रोटोकॉल वापस लेने का दिया आदेश

बेंगलुरु (Bangalore) । कर्नाटक (Karnataka) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) का पद संभालने के एक दिन बाद सिद्धारमैया (Siddaramaiah) ने रविवार को एक खास आदेश जारी किया। सिद्धारमैया ने बेंगलुरु पुलिस (bengaluru police) से उनके लिए ‘जीरो ट्रैफिक प्रोटोकॉल’ वापस लेने को कहा। सिद्धारमैया ने कहा कि लोगों की परेशानी को देखते हुए उन्होंने यह फैसला किया है। गौरतलब है कि कर्नाटक में कांग्रेस ने भारी बहुमत के साथ सत्ता हासिल की है। इसके बाद शनिवार को सिद्धारमैया ने बतौर मुख्यमंत्री यहां पर शपथ ली।


ट्वीट में लिखी यह बात
अपने नए फैसले को लेकर सिद्धारमैया ने रविवार को ट्वीट किया। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि मैंने बेंगलुरु शहर के पुलिस आयुक्त से मेरे वाहनों की आवाजाही के लिए ‘जीरो ट्रैफिक प्रोटोकॉल’ वापस लेने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि मैंने यह फैसला उस हिस्से से यात्रा करने वाले लोगों को हो रही दिक्कतों को देखने के बाद लिया है। सिद्धा ने लिखा कि जहां ‘जीरो ट्रैफिक’ के चलते प्रतिबंध लागू रहता है, वहां पर लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

लागू कर चुके हैं पांच गारंटी
इससे पहले कर्नाटक में कांग्रेस सरकार ने पहली कैबिनेट मीटिंग के साथ ही चुनावी वादे के मुताबिक पांच गारंटी योजना को लागू कर दिया है। कांग्रेस की पांच गारंटी योजनाओं में सभी घरों को 200 यूनिट मुफ्त बिजली (गृह ज्योति), हर परिवार की महिला मुखिया (गृह लक्ष्मी) को 2,000 रुपए मंथली, बीपीएल के परिवार के प्रत्येक सदस्य को 10 किलोग्राम फ्री चावल (अन्न भाग्य), बेरोजगार स्नातक युवाओं के लिए हर महीने 3,000 रुपये और बेरोजगार डिप्लोमा धारकों (18-25 आयु वर्ग में) को दो साल के लिए 1,500 रुपये (युवा निधि) और सार्वजनिक परिवहन बसों (शक्ति) में महिलाओं के लिए मुफ्त यात्रा जैसी घोषणाएं शामिल हैं।

Share:

Next Post

बृजभूषण सिंह का बड़ा बयान, बोले- 'मैं नार्को टेस्ट के लिए तैयार, लेकिन पहलवानों का भी हो...'

Mon May 22 , 2023
नई दिल्‍ली (New Delhi) । पहलवानों (wrestlers) और WFI व इसके चीफ बृजभूषण शरण सिंह (Brij Bhushan Sharan Singh) के बीच जनवरी 2023 से रार जारी है. इसके बाद बीते अप्रैल में पहलवान खुलकर WFI चीफ के विरोध में आ गए और यौन शोषण (Sexual Exploitation) का आरोप लगाया था. दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट […]