देश राजनीति

स्मृति ईरानी का बड़ा दावा, कांग्रेस के गुंडों ने मेनका गांधी पर किया था हमला

नई दिल्ली (New Delhi)। उत्तर प्रदेश की अमेठी सीट (Amethi seat of Uttar Pradesh) पर चुनावी जंग और दिलचस्प हो गई है। अब भारतीय जनता पार्टी (BJP) प्रत्याशी स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने ऐलान कर दिया है कि उनका मुकाबला प्रियंका गांधी वाड्रा से है।

खास बात है कि प्रियंका किसी भी सीट से चुनाव नहीं लड़ रही हैं, लेकिन खबर है कि वह अमेठी के प्रचार अभियान में सक्रिय हैं। इधर, 2024 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने अमेठी के बजाए रायबरेली सीट से चुनाव लड़ने का फैसला किया है।



ईरानी ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को हराया था। प्रियंका गांधी को लेकर उन्होंने कहा, ‘मैं बच्चों वाली राजनीति में नहीं पड़ना चाहती। मेरी प्रतिद्वंदी प्रियंका वाड्रा हैं। वह बैकस्टेज से लड़ रहीं हैं। भाई कम से कम सामने से तो लड़ा था। 2014 में भी राहुल सिर्फ 1.07 लाख वोट से जीते थे और वो भी मुलायम सिंह यादव की मदद से।’

बातचीत में उन्होंने कांग्रेस पर अतीत में अमेठी में बूथ कैप्चरिंग और राजनीतिक हिंसा के आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि परिवार ने यह सुनिश्चित किया कि इन घटनाओं पर कोई भी रिपोर्ताज न हो। उन्होंने यह भी दावा कर दिया कि भाजपा सांसद मेनका गांधी पर ‘कांग्रेस के गुंडों’ ने हमला कर दिया था। चैनल से चर्चा में उन्होंने कहा, ‘अमेठी में राजीव गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ना आसान नहीं रहा होगा और इसके बाद उनपर कांग्रेस के गुंडों ने हमला कर दिया था।’

अटकलें थीं कि अमेठी से एक बार फिर राहुल गांधी मैदान में उतर सकते हैं, लेकिन उन्होंने रायबरेली से चुनाव लड़ने का फैसला किया। इसके अलावा वह केरल की वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ रहे हैं। वह यहां के मौजूदा सांसद भी हैं। कांग्रेस ने अमेठी से केएल शर्मा को टिकट दिया है। इधर, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के राज्यसभा का रुख करने के बाद चर्चाएं तेज हो गईं थीं कि प्रियंका गांधी वाड्रा रायबरेली से चुनावी डेब्यू कर सकती हैं, लेकिन वह इसबार चुनाव नहीं लड़ रहीं हैं।

Share:

Next Post

'थ्रो के बारे में बात नहीं करते हैं', स्वर्ण पदक जीतने के बावजूद खुश नहीं हैं नीरज, जानिए वजह

Thu May 16 , 2024
नई दिल्ली। ओलंपिक चैम्पियन नीरज चोपड़ा ने एक बार फिर स्वर्ण पदक जीता लेकिन उस तरह से नहीं जैसा वह चाहते थे और उन्हें इसे स्वीकार करने में कोई झिझक भी नहीं थी। तीन साल में पहली बार भारत में प्रतिस्पर्धा करते हुए विश्व चैम्पियन भाला फेंक एथलीट ने बुधवार को फेडरेशन कप में 82.27 […]