बड़ी खबर

तीन नए आपराधिक कानूनों के खिलाफ दायर पीआईएल पर सुनवाई करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार


नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने तीन नए आपराधिक कानूनों के खिलाफ (Against Three New Criminal Laws) दायर पीआईएल (PIL Filed) पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया (Refused to Hear) । सुप्रीम कोर्ट ने आईपीसी, सीआरपीसी और इविडेंस एक्ट की जगह लेने वाले तीन नए आपराधिक कानूनों के खिलाफ दायर एक जनहित याचिका (पीआईएल) पर सुनवाई करने से सोमवार को इनकार कर दिया।


जस्टिस बेला एम. त्रिवेदी की अध्यक्षता वाली वेकेशन बेंच ने याचिकाकर्ता से कहा कि ये याचिका ठीक नहीं है, इसे खारिज की जा सकती है। याचिकाकर्ता विशाल तिवारी ने कहा कि ऐसे में उन्हें याचिका वापस लेने की इजाजत दी जाय। बेंच ने कहा, “आपको जो करना है करो…यह याचिका बहुत ही लापरवाह तरीके से दायर की गई है। यदि आप इस पर बहस करते हैं, तो हम जुर्माना लगा कर इसे खारिज कर देंगे, लेकिन चूंकि आप इसे वापस ले रहे हैं, हम जुर्माना नहीं लगा रहे।” आखिरकार याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका वापस ले ली।

जनहित याचिका में कहा गया था कि भारतीय न्याय संहिता, भारतीय साक्ष्य अधिनियम और भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता में कई विसंगतियां हैं। तीनों आपराधिक कानून बिना किसी संसदीय बहस के पारित किए गए, वो भी तब जब अधिकांश सदस्य सदन में मौजूद नहीं थे। इसके अलावा, यह दावा किया गया कि तीन कानूनों का टाइटल ठीक नहीं है और क़ानून और उसके मकसद के बारे में नहीं बताता है।

Share:

Next Post

ED ने बढ़ा दी अरविंद केजरीवाल की टेंशन, सरेंडर की तारीख से पहले कोर्ट में लगा दी ये अर्जी

Mon May 20 , 2024
नई दिल्ली: दिल्ली शराब नीति मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने एक अर्जी लगाकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. ईडी ने AAP संयोजक केजरीवाल के आत्मसमर्पण के समय यानी 2 जून को ही उनकी न्यायिक हिरासत बढ़ाने की मांग की है. दरअसल, सोमवार (20 मई) को केजरीवाल की न्यायिक हिरासत […]