इंदौर न्यूज़ (Indore News)

इंदौर में यूके का वीजा कैंप लगाने आए अधिकारियों का बैग मुंबई में रोका

  • सुबह 8.30 बजे आए अधिकारी, बिना सूचना के सामान रोका, शिकायत पर सुबह 11 बजे भेजने की बात कही, लेकिन शाम 7 बजे की फ्लाइट से भेजा
  • इंदौर में परेशान हुए 50 से ज्यादा वीजा आवेदक

इंदौर (Indore)। शहर में कल विदेश जाने वाले यात्रियों की सुविधा के लिए वीजा कैंप का आयोजन किया गया। इसमें यूनाइटेड किंगडम (यूके) और फ्रांस जाने के लिए वीजा बनाने की औपचारिकता पूरी करने के लिए दोनों देशों के दूतावास के अधिकृत वीजा फेसिलेटिंग सर्विसेस (वीएफएस) के अधिकारी सुबह इंदौर पहुंचे, लेकिन इनमें से यूके के वीजा बनाने के लिए आए अधिकारियों का एक बैग मुंबई में ही उन्हें बिना जानकारी दिए रोक लिया गया। पहले इसे सुबह 11 बजे भेजने की बात कही गई, लेकिन इस फ्लाइट में भी बैग नहीं भेजा गया। शिकायत के बाद यह बैग शाम 7 बजे की फ्लाइट से इंदौर पहुंचा। इस दौरान अधिकारी और वीजा बनवाने आए आवेदक सुबह से रात तक परेशान होते रहे। अधिकारियों और वीजा कैंप आयोजित करने वाली कंपनी ने इसकी शिकायत इंडिगो के मुख्यालय से की है।

उल्लेखनीय है कि भारत से बाहर जाने के लिए ज्यादातर देशों में वीजा जरूरी है। पहले वीजा बनवाने के लिए आवेदकों को इन देशों के भारत में दिल्ली-मुंबई स्थित मुख्यालय पर जाना पड़ता था और औपचारिकता पूरी करना पड़ती थी, लेकिन छह साल पहले इंदौर से ही इस सुविधा की शुरुआत हुई थी, जब वीएफएस के अधिकारी दूसरे शहरों में जाकर लोगों की सुविधा के लिए कैंप आयोजित करते हुए उनकी वीजा संबंधित औपचारिकता पूरी करते हैं। इसी क्रम में कल ट्रेवल एजेंट एसोसिएशन ऑफ इंडिया के प्रदेश अध्यक्ष हेमेंद्र सिंह जादौन ने विजयनगर स्थित अपने ओवरसीज ट्रेवल्स पर यूके और फ्रांस के वीजा के लिए कैंप का आयोजन किया था। इसमें दोनों देशों के वीजा बनाने के लिए अधिकारी सुबह 8.30 बजे इंडिगो की फ्लाइट से इंदौर पहुंचे। अधिकारियों के पास वीजा औपचारिकता जिसमें बायोमैट्रिक, फोटोग्राफी जैसी चीजें शामिल होती हैं, के लिए जरूरी उपकरण के बैग होते हैं, जिनकी सहायता से ही वे वीजा की औपचारिकता पूरी करते हैं। इनमें से एक अधिकारी प्रीति अरविंद शर्मा, जो यूके के वीजा बनाने के लिए इंदौर आई थीं, का बैग इंडिगो ने मुंबई एयरपोर्ट पर ही रोक लिया। जब प्रीति इंदौर पहुंचीं तो उन्हें इसकी जानकारी मिली। उन्होंने तुरंत एयरपोर्ट पर ही इंडिगो स्टाफ से इसकी शिकायत की। उन्हें बताया गया कि जांच के दौरान संदेह होने पर बैग रोका गया था। उसे 11 बजे इंदौर आने वाली फ्लाइट में भेज दिया जाएगा।


11 बजे भेजने का कहा लेकिन शाम 7 बजे भेजा बैग
शिकायत के बाद प्रीति वीजा कैंप के लिए विजयनगर आ गईं। यहां 50 से ज्यादा आवेदक, जिनमें इंदौर सहित भोपाल व अन्य शहरों से आए लोग शामिल थे। सुबह 11 बजे आई फ्लाइट पर जब टीम बैग लेने पहुंची तो पता चला बैग इस फ्लाइट में भी नहीं भेजा गया है। इस पर प्रीति और जादौन ने इसकी शिकायत इंडिगो की स्टेशन मैनेजर निशा रघु से करने के लिए संपर्क किया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया। इसके बाद इसकी शिकायत इंडिगो के प्रदेश स्तर के अधिकारियों और मुंबई मुख्यालय पर की गई। इस पर अधिकारी सक्रिय हुए और शाम 7 बजे की फ्लाइट से बैग को इंदौर भेजा गया। इसके बाद कैंप शुरू हो पाया और आवेदकों के वीजा बन पाए।

पहले भी हो चुकी घटनाएं, इंदौर से छिन सकती है सुविधा
जादौन ने बताया कि इससे पहले भी इंडिगो द्वारा दो बार इंदौर से जाते वक्त अधिकारियों के सामान के बैग रोके जा चुके हैं। इसमें एक बार तो अधिकारियों की फ्लाइट छूट गई थी, वहीं दूसरी बार उनके सामान में शामिल प्रिंटर से कार्टरेज को फिंकवाया गया था। इससे अधिकारी काफी नाराज होते हैं। जादौन ने बताया कि वे हर सप्ताह वीजा कैंप आयोजित करते हैं, लेकिन अगर ऐसा ही चलता रहा तो वीएफएस के अधिकारी इंदौर आना बंद कर देंगे और इंदौर से यह सुविधा छिन सकती है। इससे आवेदकों को फिर मुंबई-दिल्ली के चक्कर लगाना पड़ेंगे। उन्होंने बताया कि वे इसकी शिकायत इंडिगो के मुख्यालय और सीईओ से भी करेंगे।

Share:

Next Post

सरवटे के सामने वाले हिस्से में उपनगरीय बसों का जमावड़ा

Thu Jun 8 , 2023
आम वाहन चालकों को निकलने में आ जाता है पसीना… इंदौर (Indore)। सरवटे बस स्टैंड से लेकर रेलवे स्टेशन वाले क्षेत्र और मधुमिलन तक बसों से आम वाहन चालकों की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। पूरे क्षेत्र में बसों के कारण यही हालात है, जो सुधरने का नाम नहीं ले रहे […]