जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

कोरोना से रिकवरी के वक्‍त क्‍यों जरूरी है प्रोट्रीन? जानें किन चीजों के सेवन से प्रोट्रीन की कमी होगी दूर


कोविड-19 का संक्रमण आपके शरीर और इम्यूनिटी (immunity) को भारी नुकसान पहुंचाता है। उसकी वजह से बहुत ज्यादा तनाव होता है और पाचन भी धीमा होता है। इलाज के दौरान स्टेरॉयड (steroids) के इस्तेमाल से भी शरीर पर स्पष्ट प्रभाव पड़ता है। खराब इम्यून का सबसे आम कारण प्रोटीन की कमी होता है। इसलिए जरूरी है कि कोविड-19 से उबरने के बाद इम्यूनिटी को बहाल किया जाए। इस सिलसिले में, प्रोटीन महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। कोविड-19 के बाद आपको अधिक प्रोटीन वाले फूड्स का इस्तेमाल करना चाहिए।
अंडा-
एंटीऑक्सीडेंट्स में अधिक अंडा (Egg) ऑक्सीडेटिव नुकसान से कोविड-19 मरीजों को उबरने में मदद कर सकता है। स्वस्थ इम्यून सिस्टम के लिए अंडे में अधिक विटामिन डी जरूरी है। ये ब्लड शुगर के नियंत्रण में मदद करता है। विटानिम्स जैसे सेलेनियम, विटामिन ए, बी और के के अलावा अंडा में प्रोटीन की बड़ी मात्रा होती है। रोजाना दो अंडों का इस्तेमाल संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में काफी मदद कर सकता है और शरीर के संपूर्ण स्वास्थ्य को फिर से बनाता है।

स्प्राउट-
अपनी रोजाना की डाइट में ज्यादा प्रोटीन शामिल करने का ये अच्छा तरीका है। स्प्राउट में प्रोटीन, फोलेट, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, मैग्नीज, विटामिन सी और के ज्यादा होते हैं। अंकुरित करने की प्रक्रिया पोषण लेवल को बढ़ा देती है। इसलिए, कोविड-19 के मरीजों को मूंग, अल्फाल्फा, काबुली चना (Chickpea) अनिवार्य रूप से शामिल करना चाहिए। ये एमिनो एसिड की अच्छी मात्रा उपलब्ध कराते हैं, जिससे पाचन (digestion) आसान होता और तेजी से आपकी प्रोटीन की जरूरत पूरी होती है। अंकुरण प्रक्रिया शरीर को अधिक तेजी से ठीक होने की अनुमति देती है।


मछली-
न सिर्फ प्रोटीन बल्कि मछली ओमेगा-3 फैटी एसिड (Omega-3 Fatty Acid) के साथ-साथ विटामिन डी, कैल्शियम, फॉस्फोरस, मिनरल्स जैसे आयरन, जिंक, आयोडीन, मैग्नीशियम और पोटैशिमय का शानदार स्रोत है जो आसानी से पचते हैं और सूजन-रोधी भी होते हैं। बहुत लोगों को दाल और बीन्स (Lentils and Beans) पचाने में मुश्किल होती है, विशेषकर जब उनका पेट और इम्यून सिस्टम कमजोर हो। ऐसे में मछली आपकी जरूरतों को पूरा करने का इलाज हो सकती है।

वेजिटेरियन प्रोटीन के स्रोत-
दाल और फलिया प्रोटीन, जिंक, विटामिन्स, सेलेनियम और एमिनो एसिड (Selenium and Amino Acids) जैसे लाइसिन में समृद्ध होते हैं, जो कैल्शियम(calcium) के अवशोषण में मदद करता है, पचने में आसान होते हैं, और खास तौर से इम्यून सिस्टम के विकास में फायदेमंद होते हैं। उनका इस्तेमाल डोसा और चाट समेत स्वादिष्ट और स्वस्थ डिशों में किया जा सकता है।

नोट- उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्‍य सूचना उद्देश्‍य के लिए है इन्‍हें किसी चिकित्‍सक के रूप में न समझें। हम इसकी सत्‍यता की जांच का दावा नही करतें कोई भी सवाल या परेशानी हो तो विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें ।

Share:

Next Post

एनसीईआरटी इस वर्ष नवंबर में करेगा स्कूल और छात्रों का आकलन : प्रधान

Thu Jul 29 , 2021
नई दिल्ली। राज्यसभा में गुरुवार को केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने कहा कि स्कूली छात्रों (Students) के सीखने की दक्षता का आकलन (Assessment) इस वर्ष नवंबर (November) में आयोजित किया जा सकता है। एनसीईआरटी यानी राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद कक्षा 3,5,8 और10वीं के बच्चों की सीखने की उपलब्धि का आकलन […]