मध्‍यप्रदेश

शिवराज सरकार की सख्ती के बाद मध्यप्रदेश में अपराधियों पर शिकंजा कसने की कार्रवाई हुई तेज

गुना का हिस्ट्रीशीटर गुंडा गब्बू पारदी 1 साल के लिए जिला बदर

भोपाल। मध्यप्रदेश में जिस तेज गति के साथ अब तक के सबसे बड़े अदृश्य दुश्मन जानलेवा किलर कोरोना वायरस ने पांव पसारने शुरू किए, ठीक उसी तेज गति के साथ शांति का टापू कहलाने वाले मध्यप्रदेश में अपराधियों ने भी अपनी आपराधिक गतिविधियों को और ज्यादा तेज गति से चलानी शुरू कर दी थी। जिसको लेकर शिवराज सरकार की काफी आलोचना भी हुई थी । लेकिन अब मध्यप्रदेश में अपराधियों पर नकेल कसने के लिए शिवराज सरकार की सख्ती रंग दिखानी शुरू कर दी है। शिवराज सरकार ने 2 दिन पहले ही भोपाल में प्रदेश भर के आला पुलिस अफसरों की मीटिंग बुलाकर अपराधियों पर शिकंजा कसने के सख्त लहजे में आदेश दिए थे, उसका अब असर भी दिखाई देने लगा है। इसी सख्ती के चलते प्रदेश के गुना जिला और पुलिस प्रशासन ने आज एक बड़ी कार्रवाई करते हुए गुना जिले के कुख्यात हिस्ट्रीशीटर गुंडे गब्बू पारदी को 1 साल के लिए जिला बदर की कार्रवाई की गई है, जिसका गुना वासियों ने स्वागत किया है। हिस्ट्रीशीटर गब्बू पारदी कई वर्षों से गुना एवं इसके आसपास के जिलों में आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त बताया जा रहा था, जिसकी ढेरों शिकायतें जिला पुलिस और प्रशासन के पास आ चुकी हैं। इसके खिलाफ गुना के कई थाना पुलिस में संगीन अपराध भी दर्ज हैं। कई मामलों में यह हिस्ट्रीशीटर गुंडा गब्बू पारदी जमानत पर जेल से बाहर था। सूत्रों के मुताबिक हिस्ट्रीशीटर गब्बू पारदी जिले की शांति व्यवस्था एवं सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा बन गया था। इसी को आधार बनाकर गुना के जिला पुलिस प्रशासन ने हिस्ट्रीशीटर आदतन अपराधी गब्बू पारदी को 1 साल के लिए जिला बदर करने की कार्रवाई के साथ ही नियम का उल्लंघन करने पर और ज्यादा सख्त सजा देने की भी चेतावनी दी है। गौरतलब है कि गुना के हिस्ट्रीशीटर गब्बू पारदी का नाम हाल ही में गुना में एक दंपत्ति पिटाई कांड के बाद सुर्खियों में आया था। सनद रहे पिटाई कांड के बाद आदिवासी दंपति ने जहर खाकर आत्महत्या करने की भी कोशिश की थी, जिसको लेकर शिवराज सरकार पर कांग्रेस पार्टी के राहुल गांधी एवं बसपा प्रमुख मायावती सहित समूचा विपक्ष हमलावर हो गया था । सूत्रों के अनुसार इस हिस्ट्रीशीटर गब्बू पारदी के नाम के साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह का नाम भी जोड़ा गया था, जिसको लेकर भी सत्ताधारी भाजपा ने दिग्गी राजा पर कई तंज भी कसे थे। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तो दिग्विजय सिंह से उनके हिस्ट्रीशीटर गब्बू पारदी के साथ तथाकथित संबंधों पर भी तंग करने से नहीं चूके थे।

Next Post

LACः एक हफ्ते से चीन की ओर कोई बदलाव नहीं, सेना सतर्क

Wed Jul 22 , 2020
नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच लद्दाख बॉर्डर पर हालात अभी पूरी तरह से सुधरे नहीं हैं। जुलाई की शुरुआत में सैनिकों को पीछे हटाने की जिस बात पर सहमति बनी थी, वो कुछ हद तक ही सफल हो पाई है। अभी भी पैंगोंग लेक और हॉट स्प्रिंग ऐसे इलाके हैं, जहां पर दोनों […]