टेक्‍नोलॉजी

Apple का धमाकेदार Plan! अब हर किसी के हाथ में होगा महंगा iPhone, जानिए कैसे

नई दिल्ली: Apple का नाम दुनिया की सबसे बड़ी और प्रीमियम स्मार्टफोन निर्माता कंपनियों में लिया जाता है. Apple के फ्लैगशिप स्मार्टफोन्स, iPhones में वैसे तो हर वो फीचर मौजूद होता है जो लोगों को चाहिए होता है लेकिन ये बेहद महंगे होते हैं और कई लोग महंगाई की ही वजह से इन्हें नहीं खरीदते हैं. अगर आप भी इन लोगों में से हैं, तो हमारे पास आपके लिए एक अच्छी खबर है. Apple एक धमाकेदार Plan शुरू करने जा रहा है जिससे आप iPhone 13 को केवल 3 हजार रुपये में घर लेकर जा सकेंगे..

Apple का धमाकेदार Plan
खबरों की मानें तो Apple एक नई Subscription Service पर काम कर रहा है जिससे आप iPhones को एक मंथली सब्सक्रिप्शन बेसिस (Monthly Subscription Basis) पर खरीद सकेंगे. दरअसल, जिस तरह iCloud, Apple Music, Apple TV Plus, Apple Fitness Plus और Apple Arcade जैसी सॉफ्टवेयर सेवाओं को एक सब्सक्रिप्शन के तौर पर खरीदा जा सकता है, उसी तरह अब Apple की तमाम हार्डवेयर सर्विसेज, जैसे iPhone और iPad को भी इस तरह सब्सक्रिप्शन पर खरीदा जा सकेगा.

हर किसी के हाथ में होगा लेटेस्ट iPhone
आइए जानते हैं कि किस तरह अब हर कोई Apple का लेटेस्ट iPhone कैसे खरीद पाएगा. आपको बता दें कि ये सब्सक्रिप्शन सेवा ऐसी नहीं है जिसमें आपको ईएमआई की तरह 12 से 24 महीनों के लिए एक निर्धारित राशि देनी हो. Apple के इस Plan को लेने पर, जब भी कंपनी का लेटेस्ट iPhone आएगा, आप उसे एक सब्सक्रिप्शन फी देकर ले सकेंगे. इस शुल्क में नए iPhone की लागत का भी एक हिस्सा शामिल होगा. इस तरह आप कम कीमत में, पूरी कीमत चुकाए बिना ही नए iPhone को घर लेकर जा सकेंगे. आपको बता दें कि इस सेवा के बारे में Apple की तरफ से फिलहाल कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. रिपोर्ट्स की मानें तो फिलहाल इस सेवा पर काम चल रहा है और इसे इस साल के अंत तक जारी किया जा सकता है.

Share:

Next Post

एक शोध ने उड़ाई दुनिया की नींद, छह घंटे में AI ने बना डाले 40 हजार रासायनिक हथियार

Fri Mar 25 , 2022
नई दिल्ली। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का इस्तेमाल लंबे समय से सर्च इंजन, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और गैजेट में हो रहा है। फेशियल रिकॉग्निशन के लिए और रिसर्च में इसका इस्तेमाल बड़े स्तर पर होता है, लेकिन इस बार एआई ने दुनियाभर के वैज्ञानिकों को अपने काम से चौंका दिया है। दरअसल स्विस फेडरल इंस्टीट्यूट फॉर […]