इंदौर न्यूज़ (Indore News)

निगम के घेराव के पहले बैरिकेड्स लगाकर पुलिस ने रोके रास्ते

टैक्स बढ़ोतरी और अन्य समस्याओं को लेकर कांग्रेस पार्षद दल ने की थी घेराव की घोषणा

इन्दौर। कांग्रेस द्वारा विभिन्न मांगों को लेकर की गई नगर निगम का घेराव करने की घोषणा के पहले ही आज सुबह 9 बजे से भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया। निगम के दोनों मुख्य द्वार पर बैरिकेड्स लगाकर रोक दिया गया, जिससे सुबह-सुबह निगम में आने वाले कर्मचारियों की भी फजीहत हुई। पुलिस के साथ-साथ सशस्त्र बल की टुकडिय़ों की तैनाती भी की गई है, वहीं कई पुलिस अधिकारियों को भी निगम के द्वार पर तैनात किया गया है।


कांग्रेस पार्षद दल और संगठन द्वारा घेराव की घोषणा की गई है। इसके लिए सुबह 11 बजे से कांग्रेसियों के जत्थे निगम परिसर के बाहर इकट्ठा होना शुरू हो गए थे। हालांकि पुलिस ने उन्हें बाहर ही रोके रखा है। कांग्रेस ने घेराव के साथ-साथ महापौर पुष्यमित्र भार्गव को भी निगम परिसर के अंदर नहीं घुसने देने की घोषणा की है। करीब 11 माह की नगर निगम के कार्यकाल के दौरान विपक्ष की ओर से अभी तक यह निगम का बड़ा प्रदर्शन माना जा रहा है, जिसको लेकर कांग्रेस ने जोरदार तैयारियां की हैं। इसमें पार्षदों को भीड़ लाने के साथ ही कांग्रेस के नेताओं को भी कार्यकर्ताओं को लाने के लिए कहा गया है ताकि यह जंगी प्रदर्शन हो जाए। सुबह 11 बजे तक नगर निगम मुख्यालय पर कांग्रेस नेताओं की टोलियां पहुंच रही थीं, लेकिन वाहन दूर खड़ा करवाने के चक्कर में वे पैदल-पैदल ही गेट की ओर बढऩे लगे और जब तक कोई बड़ा नेता नहीं आया वे दूर ही खड़े रहे। पुलिस ने भी गिरफ्तारी की पूरी तैयारी की है और निगम के गेट पर दंगारोधी वाहन भी तैनात कर दिया है, ताकि किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटा जा सके।

इन बिंदुओं पर विरोध कर रही है कांग्रेस

– भवन अनुज्ञा शुल्क में की गई वृद्धि का विरोध और उनके रेट झोन बदलना।
– वैध घोषित कालोनियों में नक्शे पास नहीं होना
– पटेल नगर में हुए हादसे के दोषियों पर कार्रवाई।
– नर्मदा के पानी में गंदगी आना।
– अमृत योजना कब आएगी, उसका जवाब लेना।
– बिजली के खंबों की केबल को जमीन में उतारना।

Share:

Next Post

विहिप के पदों पर फेरबदल कई पदाधिकारी इधर से उधर

Mon Jul 3 , 2023
तीन दिन तक इंदौर में चला मंथन, नई कार्यकारिणी को मिली जवाबदारी इन्दौर। शहर में तीन दिन से चल रही विश्व हिंदू परिषद की मालवा प्रांत की बैठक में कई पदाधिकारियों की जवाबदारियों में बदलाव किया गया है तो कई के स्थान पर नए को जवाबदारी दी गई है। साथ ही आगामी 6 महीने कार्य […]