खेल

पत्नी से मिला धोखा, 3 बार सुसाइड की कोशिश, अब मैदान में उखाड़ रहा स्‍टंप

नई दिल्‍ली: तेज गेंदबाजी मोहम्‍मद शमी के जीन में हैं. पिता तौसीफ अली और भाई हसीब दोनों ही तेज गेंदबाज थे. हालांकि, ये दोनों जिला लेवल से आगे नहीं गए लेकिन, शमी भारत के लिए खेले. बाकी सबके लिए क्रिकेट सिर्फ शौक था, लेकिन शमी के लिए यह जुनून बना. पिता ने 10 साल के बेटे के अंदर चिंगारी महसूस की तो उसे कोच बदरुद्दीन के पास ले गए. कोच बच्‍चे से बहुत ज्‍यादा प्रभावित तो नहीं थे, लेकिन उसकी गेंदों की गति ने जरूर उनका ध्‍यान खींचा.

अमरोहा के अलीनगर गांव में गन्ने के खेतों के बीच मोहम्‍मद शमी का फार्महाउस है. वह छुट्टियों के दौरान यहीं रहते हैं. हालांकि, शमी घर पर सिर्फ एक दिन ही आराम करते हैं और फ‍िर उनकी बॉलिंग प्रैक्टिस शुरू हो जाती है. शमी की गेंदबाजी करने की चुल को देखते हुए उनके भाइयों ने घर पर ही पिच बनाने का फैसला किया. 22 गज के लिए पांच फुट गहरा गड्ढा खोदा गया. मिटटी बदलकर उसे ढका गया और पानी डालने का सिलसिला जारी रहा. घास उगने के बाद उसे काटा गया. इस पूरी कसरत में एक साल लगा. शमी की ट्रेनिंग का तरीका बिल्‍कुल देसी है. पहले वह ट्रैक्टर से खेत की जुताई करवाते हैं और जब पैर एक फीट नीचे धंसने लगते हैं, तो वह उस पर दौड़ लगाते हैं.

यूपी टीम में न चुने जाने से लग गया था सदमा
मोहम्‍मद शमी ने 17 साल की उम्र में यूपी की अंडर-19 टीम के लिए ट्रायल दिया, पर उनका सेलेक्‍शन नहीं हुआ. इससे शमी गहरे सदमे में चले गए. इसी दौरान शमी के कोच बदरूद्दीन के पास कोलकाता से उनके दोस्त का फोन आया, जो तेज गेंदबाज की तलाश में थे. बंगाल पहुंचते ही शमी की किस्‍मत बदल गई.


रिस्‍ट पोजीशन के लिए करते हैं कड़ी मेहनत
टी20 वर्ल्‍ड कप के दौरान एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें मोहम्‍मद शमी पाकिस्‍तान के तेज गेंदबाज शाहीन अफरीदी को टिप्स दे रहे थे. इसमें शमी से शाहीन कहते हैं, जबसे मैंने बॉलिंग स्टार्ट की है तबसे ही आपको फॉलो कर रहा हूं. आपकी रिस्ट पोजिशन का जवाब नहीं. शमी की अपराइट सीम उनकी बॉलिंग की खासियत है और इसके लिए उन्‍होंने सालों तक कड़ी मेहनत की है.

शमी के कोच बदरुद्दीन ने इंडियन एक्‍सप्रेस को बताया कि शमी ने अपनी रिस्‍ट पोजीशन पर काम करने के लिए बेतहाशा मेहनत की है. घर की दीवार गेंद के निशान से पूरी लाल हो गई थी. शमी घर में होने पर एक स्‍टंप लगा गेंदबाजी अभ्‍यास करते हैं. बदरुद्दीन कहते हैं, आजकल तेज गेंदबाज जिम में काफी विश्वास करते हैं, लेकिन शमी ने कभी ऐसा नहीं किया. जिम केवल आपके शरीर को आकार दे सकता है, लेकिन मैदान आपको सहनशक्ति देता है. बता दें कि शमी को पत्‍नी हसीन जहां से विवाद के चलते काफी दिक्‍कतों का सामना करना पड़ा. दोनों का मामला अभी कोर्ट में है. उन्होंने 3 बार सुसाइड की भी कोशिश की थी.

Share:

Next Post

सचिन बना शोएब! 2 बच्चों की मां का कराया धर्म परिवर्तन, फिर किया निकाह, अब फरार

Mon Feb 27 , 2023
हरिद्वार: उत्तराखंड के हरिद्वार (Haridwar) में जबरन धर्मांतरण (Religion Change) कर महिला से शादी करने का हैरान कर देने वाला एक मामला सामने आया है. यहां एक मुस्लिम युवक (Muslim Youth Changed Name) ने महिला से नाम बदलकर ना सिर्फ शादी की बल्कि शादी के बाद उसके साथ हैवानियत की सारी हदें भी पार की. […]