क्राइम जबलपुर मध्‍यप्रदेश

जबलपुर में मदमाश के कब्जे पर चला ”मामा” का बुल्‍डोजर

जबलपुर। मध्य प्रदेश शासन (MP) द्वारा राशन की काला बाजारी, मिलावटखोरों, भू-माफियाओं/चिटफंड कंपनी के कारोबारियों (Adulterants, land mafia / chit fund company businessmen) एवं सूदखोरों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करने के निर्देश प्रशासन एवं पुलिस विभाग को दिये गये हैं। निर्देशों के पालन में पुलिस एवं प्रशासन की संयुक्त टीम के द्वारा इस प्रकार के माफियाओं (mafia) की लिस्ट एवं उनके द्वारा किये गये अवैध निर्माण एवं कब्जे की जानकारी तैयार कर उनके विरूद्ध लगातार कार्यवाही की जा रही है।


इसी क्रम में 20 मई को कलेक्टर जबलपुर डॉ. इलैयाराजा टी. (भा.प्र.से.) एवं पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा के मार्गदर्शन में मुन्नालाल उर्फ मुन्ना यादव पिता स्व. शंकरलाल यादव निवासी बिछुआ टोला ग्राम छतरपुर थाना पनागर एक अपराधी प्रवृत्ति का व्यक्ति है, जिसके विरूद्ध बलवा कर शासकीय कार्य मे व्यवधान उत्पन्न कर मारपीट, एवं घर में घुसकर बलवा कर मारपीट आबकारी एक्ट के चार प्रकरण दर्ज हैं। बदमाश मुन्‍नालाल के द्वारा थाना पनागर अन्तर्गत बिछुआ टोला ग्राम छतरपुर में शासकीय 1600 वर्ग फुट भूमि जिसकी अनुमानित कीमत 15 लाख रूपये पर 15 लाख रूपये की लागत से दुकान का निर्माण कर शराब दुकान किराये पर संचालित करवा रहा था, अवैध निर्मित दुकान को जमीदोज करते हुये कब्जा मुक्त कराया गया साथ ही लगभग दस एकड़ शासकीय भूमि कीमत लगभग एक करोड़ रूपये पर कब्जा कर ईंट भट्टे का संचालन एवं खेती करवा रहा था, जिसे भी कब्जा मुक्त कराया गया।

इस संपूर्ण कार्यवाही के दौरान उप पुलिस अधीक्षक अपराध श्री प्रभात शुक्ला, थाना प्रभारी गोसलपुर परिवीक्षाधीन (भा.पु.से.) श्री शशांक, नायब तहसीलदार सुश्री सारिका रावत, थाना प्रभारी पनागर श्री आर.के. सोनी, थाना रांझी, अधारताल, खमरिया का बल एवं पुलिस लाईन से निरीक्षक श्री लोकमन अहिरवार 25 के बल के साथ तथा आर.आई. श्री राजेश सहाय, पटवारी सुश्री रश्मि शुक्ला एवं नगर पालिका पनागर का अतिक्रमण अमला मौजूद था।

Share:

Next Post

Ola और Uber को CCPA ने भेजा नोटिस, अनुचित व्यवहार के मामले में की कार्रवाई

Fri May 20 , 2022
नई दिल्‍ली। सरकार (Government) ने बीते 10 मई को कैब प्रदाताओं के साथ हुई बैठक में चेतावनी दी थी कि अगर वे अपनी व्यवस्था में सुधार और उपभोक्ताओं(consumers) की बढ़ती शिकायतों का समाधान नहीं करती हैं, तो उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण (सीसीपीए) ने ऑनलाइन कैब सेवाएं प्रदान करने वाली […]