देश

यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा पेपर लीक मामले में 18 आरोपियों के खिलाफ 900 पेज की चार्जशीट दाखिल, STF ने की जांच

मेरठ (Meerut) । उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में गरमाए पेपर लीक के मामलों (Paper Leak Case) के बीच बड़ी रिपोर्ट सामने आई है। यूपी पुलिस (UP Police) लिखित परीक्षा पेपर लीक मामले में एसटीएफ की मेरठ यूनिट ने 90 दिन में ही कोर्ट में छह राज्यों के 18 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल (charge sheet filed) कर दी है। इस मामले में 6 मार्च को थाना कंकरखेड़ा में मुकदमा दर्ज हुआ था। एसटीएफ मेरठ यूनिट के एएसपी बृजेश सिंह ने शुक्रवार को बताया कि इस मामले में सीजेएम कोर्ट में 900 पेज की चार्जशीट 6 जून को दाखिल की गई है। कोर्ट जल्द ही अब इस पर सुनवाई की तारीख तय करेगी। दरअसल, यूपी पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती के लिए 17 और 18 फरवरी 2024 को होने वाली लिखित परीक्षा के पेपर परीक्षा से पहले ही लीक हो गए थे। इसकी जानकारी मिलने पर शासन ने परीक्षा कैंसल कर दी था।

एसटीएफ की मेरठ यूनिट ने पेपर लीक मामले में 6 आरोपियों दीपक उर्फ दीप, बिट्टू, प्रवीण, रोहित उर्फ ललित, साहिल और नवीन को गिरफ्तार कर 6 मार्च को थाना कंकरखेड़ा में मुकदमा दर्ज कराया। गिरफ्तार आरोपी से की गई गहन पूछताछ में खुलासा हुआ था कि गुरुग्राम मानेसर और मध्यप्रदेश के रीवा स्थित रिसोर्ट में कुल 1200 उम्मीदवारों को लीक हुआ पेपर पढ़ाया गया था। इसके बाद एसटीएफ ने 12 मार्च को हरियाणा के जींद निवासी महेंद्र के अलावा अभिषेक शुक्ला, रोहित पांडेय, शिवम गिरी और मानेसर के रिसॉर्ट मालिक सतीश धनकड़ को भी एसटीएफ ने दबोच लिया।


जांच में हुए कई अहम खुलासे
एसटीएफ को जांच में पता चला कि पेपर रवि अत्री गैंग ने अहमदाबाद स्थित कंपनी के वेयरहाउस से लीक कराया था। इस जानकारी के बाद एक्शन में आई एसटीएफ ने रवि अत्री, विक्रम पहल, राजीव नयन मिश्रा, डॉ. शुभम मंडल, शिवम गिरी, रोहित, अभिषेक शुक्ला को गिरफ्तार किया था। 18 आरोपियों की गिरफ्तारी करने के बाद पुलिस ने अपने जांच की गति बढा दी और 6 जून को सभी के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दायर कर दी । बताया गया सभी आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट लगाकर उनकी संपत्ति जब्त करने की तैयारी भी की जा रही है।

नीट पेपर लीक में भी नाम
नीट पेपर लीक मामले में भी रवि अत्री का नाम आया है। यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा के पेपर लीक करने का मास्टरमाइंड रवि अत्री यूपी की मेरठ जेल में बंद है। पेपर छापने वाली कंपनी एजुटेस्ट को पहले ही ब्लैकलिस्टेड कर दिया गया है। पता चला हैा कि रवि अत्री ने पटना और नालंदा के बॉर्डर से नीट परीक्षा का पेपर लीक कराया था। एसटीएफ की मेरठ यूनिट ने 5 मार्च को दीपक बिट्टू प्रवीण रोहित साहिल और नवीन को गिरफ्तार किया था, इन दोनों की कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र से गिरफ्तारी हुई थी।

जेवर से गिरफ्तार हुआ रवि
पेपर लीक करने वाले गिरोह के सरगना रवि अत्री को एसटीएफ की टीम ने जेवर के बस स्टैंड के पास से गिरफ्तार कर किया था। रवि अत्री ग्रेटर नोएडा के एक गांव का रहने वाला है। वह मेडिकल की तैयारी करने कोटा गया था, लेकिन सॉल्वर गैंग के संपर्क में आ गया। उसका नाम 2012 की स्टेनोग्राफर परीक्षा के पेपर लीक करने में सामने आया था।

यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा इसी साल 2024 में फरवरी में हुई थी। इस परीक्षा में 48 लाख से अधिक उम्मीदवार शामिल हुए थे। यह परीक्षा 17 और 18 फरवरी को उत्तर प्रदेश के सभी 75 जिलों में चार पालियों में 2,385 केंद्रों पर आयोजित की गई थी. पेपर लीक की रिपोर्ट के बाद यूपी सरकार ने यह परीक्षा रद्द कर दी थी.

Share:

Next Post

ईडी के पास कोई ठोस सबूत नहीं, जमानत को बना दिया असंभव; कब तक चलेगी केजरीवाल की जांच

Sat Jun 22 , 2024
नई दिल्‍ली(New Delhi) । दिल्ली के राउज एवेन्यू कोर्ट(Rouse Avenue Court, Delhi) ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल(Chief Minister Arvind Kejriwal) को जमानत(Bail) देते हुए कहा कि ईडी ने केजरीवाल (ED summons Kejriwal)के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग केस में कोई प्रत्यक्ष सबूत सामने नहीं रखे हैं। जांच कितने समय तक चलेगी इस बात का जवाब देने में भी […]