विदेश

चीन ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की प्रशंसा की

– विदेशी सैन्य हवाई अड्डे की अनुमति नहीं देने को सराहा

बीजिंग (Beijing)। चीन (China) ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री (Bangladesh Prime Minister) शेख हसीना (Sheikh Hasina) की प्रशंसा की है। शेख हसीना (Sheikh Hasina) की यह सराहना दूसरे देश के सैन्य हवाई अड्डे (Military airport) को मंजूरी देने से इनकार करने के फैसले के लिए की है। उनके इस निर्णय पर चीन ने कहा कि यह बांग्लादेशी लोगों की मजबूत राष्ट्रीय भावना और स्वतंत्रता के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को प्रतिबिंबत करता है।

हसीना (76) ने किसी देश का नाम लिए बिना रविवार को कहा था कि बांग्लादेश में एक दूसरे देश का सैन्य हवाई अड्डा बनाने की अनुमति देने पर उन्हें सात जनवरी के चुनाव में निर्बाध रूप से दोबारा निर्वाचित कराने में मदद करने की पेशकश की गई थी।


हसीना का दक्षिण एशिया में सामरिक रूप से अहम बांग्लादेश में 2009 से शासन है और उन्होंने जनवरी में पांचवे कार्यकाल के लिए जीत दर्ज की। इस चुनाव का पूर्व प्रधानमंत्री खालिद जिया नीत मुख्य विपक्षी दल बांग्लादेश नेशलिस्ट पार्टी (बीएनपी) ने बहिष्कार किया था।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता माओ नींग ने हसीना के इनकार को लेकर पूछे गए सवाल पर कहा, चीन ने प्रधानमंत्री हसीना के बयान पर संज्ञान लिया है, जो बांग्लादेशी लोगों की स्वतंत्र रहने और बाहरी दबाव से न डरने की राष्ट्रीय भावना को दर्शाता है। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ने पेशकश करने वाले देश के नाम उजागर नहीं किया है लेकिन कहा कि प्रस्ताव एक श्वेत व्यक्ति की ओर से आया था।

माओ नींग ने कहा कि कुछ देश अपने स्वार्थों के लिए दूसरे देशों के चुनावों, आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करते हैं, क्षेत्रीय सुरक्षा और स्थिरता को कमजोर करते हैं और अपनी आधिपत्यवादी, धमकाने वाली प्रकृति को पूरी तरह से उजागर करते हैं।

Share:

Next Post

चीन ने भारत की सीमा पर 4 साल में बनाए 624 गांव, विशेषज्ञ ने दी बड़ी चेतावनी

Wed May 29 , 2024
वॉशिंगटन/बीजिंग: भारत ((India) के साथ सीमा (border) के करीब चीन (China) दोहरे उपयोग वाले गांव (villages) बनाने में लगा है। इसके अलावा वह सैन्य सुविधाओं (Military facilities) के नेटवर्क को विस्तार दे रहा है। वॉशिंगटन थिंक टैंक सेंटर फॉर इंटरनेशनल एंड स्ट्रैटेजिक स्टडीज (CSIS) की एक नई रिपोर्ट में 16 मई को कहा गया, ‘निर्जन […]