बड़ी खबर

दरगाह आला हजरत ने कन्हैया लाल के हत्यारों के खिलाफ फतवा जारी किया


बरेली । बरेली (Bareli) की दरगाह आला हजरत (Dargah Ala Hazrat) ने उदयपुर में (In Udaypur) कन्हैया लाल की हत्या के दो आरोपियों (Two Accused in the Murder of Kanhaiya Lal) गौस मोहम्मद और रियाज अटारी के खिलाफ (Against Gaus Mohammad and Riyaz Attari) फतवा जारी किया है (Issues Fatwa) । फतवे में 19वीं सदी के इस्लामी विद्वान अहमद रजा खान बरेलवी की शिक्षाओं का हवाला दिया गया, जिन्हें आमतौर पर आला हजरत के नाम से जाना जाता है।


बरेलवी उलेमा के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन रजवी ने कहा कि आला हजरत ने फैसला सुनाया है कि अगर कोई व्यक्ति इस्लामिक शासन के तहत ‘किसी को मारता है, तो ऐसा व्यक्ति शरिया की नजर में अपराधी होगा’ और उसे कड़ी सजा दी जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि गैर-इस्लामिक सरकारों के तहत, इस तरह की हत्याओं को वैसे भी देश के कानून के अनुसार नाजायज माना जाएगा और व्यक्ति इस तरह के अपराध को अंजाम देकर अपनी जान जोखिम में डाल सकता है।

रजवी ने रेखांकित किया कि पैगंबर का अपमान करने वालों के सिर काटने का आह्वान करने वाले नारे सबसे पहले तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान द्वारा दिए गए थे, जो पड़ोसी देश में एक दूर-दराज इस्लामी चरमपंथी राजनीतिक दल था, ताकि उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा को पूरा किया जा सके। कन्हैया लाल के हत्यारों को एक वीडियो में ‘गुस्ताखी ए नबी की एक ही साजा, सर तन से जुदा सर तन से जुदा’ का नारा लगाते हुए सुना गया था। वह हत्या पर शेखी बघार रहे थे।

राजस्थान पुलिस ने अजमेर में एक मौलवी सहित तीन लोगों को अभद्र भाषा देने के आरोप में गिरफ्तार किया, जिसमें उन्होंने पैगंबर के अपमान का बदला लेने के लिए कथित तौर पर सिर काटने का आह्वान किया था। रजवी ने कहा, “मुसलमानों को कानून अपने हाथ में नहीं लेना चाहिए, सरकार से शिकायत करें, सजा देना सरकार का काम है।”

बरेली में आला हजरत दरगाह उदयपुर में हुई हिंसक घटना की निंदा करने में अन्य मुस्लिम संगठनों में शामिल हो गई है, जहां पैगंबर पर भाजपा नेता नूपुर शर्मा के बयान का समर्थन करने के लिए एक दर्जी की हत्या कर दी गई थी। पिछले हफ्ते जारी एक बयान में मौलाना शहाबुद्दीन रजवी ने कहा कि इस घटना ने पूरे समुदाय को शर्म और पछतावे के साथ सिर झुका दिया था।

Share:

Next Post

भावनाओं से नहीं चलती दुनिया, परिणाम के साथ प्रमाण भी जरूरी, आयुर्वेद पर बोले PM मोदी

Thu Jul 7 , 2022
वाराणसी। पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने वाराणसी(Varanasi) में राष्ट्रीय शिक्षा समागम को संबोधित करते हुए कहा कि आज की दुनिया परिणाम के साथ ही प्रमाण भी मांगती है। हमें अपनी शिक्षा व्यवस्था को इस लिहाज से तैयार करना होगा कि दुनिया(World) में हमारी चीजों को स्वीकार करे और उसका लोहा माने। खासतौर पर […]