मनोरंजन

दिगांगना पर लगे क्रिमिनल ब्रीच के आरोप, बीच में फंसे अक्षय कुमार

मुंबई (Mumbai)। बॉलीवुड एक्ट्रेस दिगांगना सूर्यवंशी (Digangana Suryavanshi) ने वेब सीरीज ‘शोस्टॉपर’ (‘Showstopper’) के प्रोड्यूसर-डायरेक्टर मनीष हरिशंकर (Manish Harishankar) के आरोपों को गलत बताया है. दिगांगना ने ने मनीष हरिशंकर के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज कराया है और पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई है. मनीष ने पहले दिगांगना पर जबरन वसूली और क्रिमिनल ब्रीच का आरोप लगाया था. दिगांगना ने कहा है कि उन्होंने एक बिजनेस डील के तहत ‘शोस्टॉपर’ के लिए प्रेजेंटर के रूप में आने के लिए अक्षय कुमार की मंजूरी ली थी, जिसे मनीष ने पूरा नहीं किया.

इस मामले पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए दिगांगना ने कहा, “मनीष जो कह रहे हैं वह उनकी मनगढ़त कल्पना है. यह सब झूठ है. केवल नाम घसीटने का एक सस्ता प्रमोशनल स्टंट है. साफ दिख रहा है कि वह हलाल करने के लिए बकरा खोज रहे हैं जिससे कि वह 2 साल से ज्यादा वक्क बाद भी शो को बेच सकें.”

दिगांगना सूर्यवंशी ने कहा, “मैं आगे और अधिक समय बर्बाद नहीं करना चाहती, मैंने पहले ही उनकी मदद करने की कोशिश में बहुत समय बर्बाद कर दिया है.” दिगांगना के वकील राजेंद्र मिश्रा ने भी एक बयान जारी किया जिसमें लिखा था, “हम आधिकारिक तौर पर यह कहना चाहते हैं कि हमारी मुवक्किल दिगांगना के खिलाफ लगाए गए सभी आरोप पूरी तरह से निराधार हैं और किसी के आपराधिक इरादे और अपनी कमियों को छिपाने की कोशिश का नतीजा हैं.”



दिगांगना सूर्यवंशी ने मनीष हरिशंकर के साथ साइन की थी डील
राजेंद्र मिश्रा ने आगे कहा कि “हमारी मुवक्किल मनीष को 7 साल से जानती है और उनकी सीरीज़ ‘शोस्टॉपर’ में एक एक्ट्रेस हैं, मनीष ने हमारी मुवक्किल से मदद मांगी और एक बिजनेस डील ऑफर दिया, जिसे दोनों ने साइन किया. मनीष को डील की पुष्टि के रूप में एक रफ ड्राफ्ट कॉन्ट्रैक्ट दिया गया था, ड्राफ्ट में कई बदलाव करने थे, जिनके बारे में मनीष को पहले ही बता दिया गया था. मनीष ने भुगतान की समयसीमा तय की और तीन बार समयसीमा में विफल रहे!”

राजेंद्र मिश्रा ने कहा कि “हमारे क्लाइंट को इस दौरान एहसास हुआ कि मनीष हरिशंकर के पास डील को पूरा करने के लिए पैसे की समस्या थी, उसके फाइनेंसर ने उससे कहा था कि अगर उसे और फंडिंग की जरूरत है तो वह सभी अन्य फाइनेंसरों की एनओसी या कॉन्ट्रैक्ट उपलब्ध करें और मनीष अपने फाइनेंसर को वह नहीं दे सका, यही वजह है कि कोई पैसा जारी नहीं किया गया और डील रद्द कर दी गई.

Share:

Next Post

किफायती मकानों की बिक्री में चार फीसदी की गिरावट, लग्जरी अपार्टमेंट की अधिक मांग

Mon Jun 17 , 2024
नई दिल्ली। देश के आठ प्रमुख शहरों में जनवरी-मार्च तिमाही में 60 लाख रुपये तक की कीमत वाले किफायती मकानों की बिक्री चार फीसदी घटकर 61,121 इकाई रह गई है। कम आपूर्ति और लग्जरी अपार्टमेंट की अधिक मांग से किफायती मकानों की बिक्री में गिरावट आई है। रियल एस्टेट के आंकड़ों का विश्लेषण करने वाली […]