जीवनशैली धर्म-ज्‍योतिष

बृहस्पति की वक्री चाल से इन 3 राशियों का चमक जाएगा भाग्‍य, पढ़ें कही आपकी राशि तो नही शामिल

ज्‍योतिष शास्‍त्र में नवग्रहों का विशेष महत्‍व है । इस समय देवगुरु बृहस्पति वक्री चाल चल रहे हैं। 14 सितंबर, 2021 तक गुरु उल्टी यानी वक्री चाल ही चलेंगे। गुरु ज्ञान, शिक्षक, संतान, बड़े भाई, शिक्षा, धार्मिक कार्य, पवित्र स्थल, धन, दान, पुण्य और वृद्धि आदि का कारक होता है। ज्योतिष में बृहस्पति ग्रह 27 नक्षत्रों में पुनर्वसु, विशाखा, और पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र का स्वामी होता है। 14 सितंबर 2021 तक कुछ राशियों पर देवगुरु की विशेष कृपा रहेगी। देवगुरु बृहस्पति (Devguru Brihaspati) के शुभ होने पर व्यक्ति को सभी तरह के सुखों का अनुभव होता है और व्यक्ति सफलता और सत्य के मार्ग पर चलता है। आइए जानते हैं देवगुरु की कृपा से किन राशियों की किस्मत चमक उठेगी….

धनु राशि
आर्थिक समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। मान- सम्मान और पद- प्रतिष्ठा में वृद्धि के योग बन रहे हैं। धन- लाभ होगा। धैर्य से काम लेने से सफलता अवश्य प्राप्त करेंगे। कार्यक्षेत्र में सब आपकी तारीफ करेंगे। व्यापार में लाभ होगा। जीवनसाथी के साथ समय व्यतीत करें।



वृश्चिक राशि
धन- लाभ होने के योग बन रहे हैं, जिससे आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। नौकरी और व्यापार में तरक्की के योग बन रहे हैं। मेहनत करने से कार्यों में सफलता अवश्य प्राप्त होगी। परिवार के सदस्यों के साथ समय व्यतीत करें। नया वाहन या मकान खरीद सकते हैं। दांपत्य जीवन में सुख का अनुभव करेंगे।

मीन राशि
शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए ये समय किसी वरदान से कम नहीं है। शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में शामिल होने का अवसर प्राप्त होगा। स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। मान- सम्मान और पद- प्रतिष्ठा में वृद्धि के योग बन रहे हैं। आर्थिक पक्ष मजबूत रहेगा।

नोट– उपरोक्त दी गई जानकारी व सूचना सामान्य उद्देश्य के लिए दी गई है। हम इसकी सत्यता की जांच का दावा नही करतें हैं यह जानकारी विभिन्न माध्यमों जैसे ज्योतिषियों, धर्मग्रंथों, पंचाग आदि से ली गई है । इस उपयोग करने वाले की स्वयं की जिम्मेंदारी होगी ।

Share:

Next Post

MP में जारी है बारिश का सिलसिला, इन जिलों में तेज बारिश के आसार

Sun Aug 8 , 2021
भोपाल। मध्य प्रदेश (MP) में इस समय कई जगह बारिश (Rain) का सिलसिला जारी है। मध्य प्रदेश के उत्तरी भागों (northern parts) पर निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। संबद्ध चक्रवाती हवाओं (cyclonic winds) का क्षेत्र समुद्र तल से 5.8 किलोमीटर ऊपर तक फैला हुआ है। इसी मौसमी सिस्टम के परिणामस्वरूप पिछले कुछ दिनों […]