इंदौर न्यूज़ (Indore News)

लोककला को प्रोत्साहित करने के लिए प्रदेश में होंगे उत्सव

  • मुख्यमंत्री ने कहा-कला हमारी लोक संस्कृति का सशक्त माध्यम

इन्दौर। कल रात मालवा उत्सव में पहुंचे मुख्यमंत्री मोहन यादव ने कहा कि ऐसे उत्सव राज्य में और उसके बाहर भी होना चाहिए। अगले साल जब मालवा उत्सव का 25वां साल रहेगा, तब इस तरह के उत्सव होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि कला हमारी संस्कृति की अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है और इसे जिंदा रखना हमारा कर्तव्य है। करीब डेढ़ घंटे की देरी से पहुंचे मुख्यमंत्री को मुख्य द्वार से कलाकारों द्वारा जुलूस के रूप में लाया गया। मुख्यमंत्री को साफा पहनाया गया और उनके हाथ में बांसुरी दी गई। मुख्यमंत्री अपने आपको थिरकने से रोक नहीं पाए। मुख्यमंत्री जब मालवा उत्सव में पहुंचे तो मंच पर लावणी की प्रस्तुति दी जा रही थी। पुलिसवालों ने इसे बंद कराने को कहा तो पवन शर्मा ने आपत्ति ली कि एक बार कार्यक्रम शुरू हो गया है, यह समाप्त होगा उसके बाद मंचीय कार्यक्रम शुरू हो सकेगा।

मंच पर मुख्यमंत्री के साथ मंत्री तुलसी सिलावट, महापौर पुष्यमित्र भार्गव, सत्यनारायण सत्तन, विधायक रमेश मेंदोला, गोलू शुक्ला, उषा ठाकुर, मालिनी गौड़ उनके साथ रहीं। आयोजक शंकर लालवानी ने बताया कि किस तरह से हमने 1999 में लोककला के इस उत्सव की शुरूआत की थी। मुख्यमंत्री यादव का स्वागत विशाल गिदवानी, बंटी गोयल, सतीश शर्मा, कमल आहूजा ने किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगले साल से इसे और भव्य रूप में आयोजित किया जाएं। उन्होंने यह भी बताया कि महाकाल लोक में फाइबर की जगह पत्थरों की मूर्तियां बनाने का काम चल रहा है, वह भी जल्द ही पूरा हो जाएगा। जाते-जाते मुख्यमंत्री को ऊंट पर बैठने का कहा गया तो उन्होंने मना कर दिया। उन्होंने कहा कि उज्जैन में भी कई कार्यक्रम है और वहां लोग शाम से मेरा रास्ता देख रहे हैं। उसके बाद मुख्यमंत्री उज्जैन रवाना हो गए।

Share:

Next Post

दिल्ली रूट सबसे कमाऊ, नौ स्थायी ट्रेनों के साथ दो स्पेशल ट्रेनें भी दौड़ रहीं

Sun Jun 16 , 2024
इन्दौर। रेलवे के लिहाज से इंदौर से नई दिल्ली का रूट सबसे कमाऊ साबित हो रहा है। इस रूट पर नौ स्थायी ट्रेनें तो चल ही रही हैं और यात्रियों की भीड़ को देखते हुए दो स्पेशल ट्रेनें भी चलाना पड़ रही हैं। इस तरह 11 ट्रेनें फिलहाल पैक चल रही हैं, जिनमें कन्फर्म टिकट […]