ज़रा हटके

35 KM के इस छोटे से हाइवे पर जाने का मतलब मौत से खेलना, अब तक 900 लोग गवा चुके है जान

नई दिल्ली। नेशनल हाइवे (National Highway) 24 पर 35 किमी का ऐक ऐसा स्ट्रेच है जिसने 2017 से 2021 के बीच 272 करोड़ रुपये का रेवेन्यू (Revenue) जनरेट किया है, लेकिन हापुड़ से मुरादाबाद (Hapur, Moradabad) के बीच स्थित ये हाइवे इसी दौरान करीब 900 लोगों की जान ले चुका है। सरकारी डेटा में सामने आया है कि ये टोल रोड स्ट्रेच ब्रिजघाट टोल प्लाजा के अंतर्गत आता है जो नेशनल हाइवे 24 पर है। सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक ये रोड दिल्ली से उत्तर प्रदेश के इंटीरियर या उत्तराघंड के नैनीताल जाने का मुख्य मार्ग है।

नोएडा बेस्ड एक सोशल एक्टिविस्ट द्वारा राइट टू इंफॉर्मेशन के अंतर्गत पूछे गए सवाल पर नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) के जवाब में ये जानकारी सामने आई है। NHAI ने कहा कि इस स्ट्रेच को बनाने में 195.51 करोड़ रुपये का खर्च आया है। 2017 से 2021 के बीच NHAI से सरकार ने 272 करोड़ रुपये का रेवेन्यू जुटाया है। लेकिन इसमें एक चौंकाने वाला सच भी सामने आया है जिसमें 900 लोगों की जान इसी हाइवे पर दुर्घटनाओं में चली गई है।

नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) ने बताया कि ब्रिजघाट टोल प्लाजा क्षेत्र में 2018-19 में कुल 136 लोग सड़क दुर्घटना में मरे। ये आंकड़ा 2019-20 में बढ़ा और इस दौरान 184 लोगों की दुर्घटनाओं में जान गई। 2019-29 में कुल 326 लोग अपनी जान गांवा चुके हैं। इन सभी दुर्घटनाओं के बाद भी सिर्फ पिछले साल यानी 2021 में 238 लोग इस 35 किमी के हाइवे पर दुर्घटना में मौत के शिकार हुए हैं। जहां इस आरटीआई में बीते 10 साल में हुई मौतों का आंकड़ा मांगा गया था, लेकिन नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) ने बताया कि उनके पास 2017-18 या उससे पहले का आंकड़ा मौजूद नहीं है।

Share:

Next Post

MP के मंत्री ने किया दावा, कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की सभी तैयारियाँ पूरी

Thu Jan 13 , 2022
भोपाल। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी (Public Health and Family Welfare Minister Dr. Prabhuram Choudhary) ने कहा है कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिये स्वास्थ्य विभाग की सभी तैयारियाँ पूरी हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन सपोर्टेड बिस्तर (oxygen supported bed) और ऑक्सीजन आपूर्ति की पर्याप्त व्यवस्थाएँ की गई हैं। […]