इंदौर न्यूज़ (Indore News)

135 करोड़ की जमीन माफिया से छुड़वाई, इंदौर रहा अव्वल

स्वच्छता के मामले में भी शिवराज ने इंदौर को बताया आईकॉन, राष्ट्रीय स्तर पर कलेक्टरों को करवाएंगे पुरस्कृत
इंदौर।  मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan)  ने 7 घंटे तक कलेक्टर-कमिश्नर कान्फ्रेंस (Collector-Commissioner Conference) ली और इसके बाद वे विवाह समारोह में शामिल होने इंदौर भी आए। भूमाफियाओं (Land Mafia) के खिलाफ की गई कार्रवाई में इंदौर एक बार फिर अव्वल रहा। दिसम्बर के महीने में ही कलेक्टर मनीष सिंह (Collector Manish Singh) ने 10 प्रकरणों में 15 एकड़ से अधिक सरकारी जमीन भूमाफियाओं के चंगुल से छुड़वाई, जिसकी कीमत 135 करोड़ रुपए होती है। जबलपुर (Jabalpur), भोपाल (Bhopal) व अन्य जिले इंदौर (Indore) के बाद रहे। वहीं राशन (Ration), मिलावटखोर (Adulteration), अवैध शराब (Illegal Liquor) व अन्य प्रकरणों में भी इंदौर ने बाजी मारी।


मुख्यमंत्री लगातार माफिया (Mafia) के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश अधिकारियों को देते रहे हैं। बीते सालभर में इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह (Collector Manish Singh) ने गृह निर्माण संस्थाओं से जुड़े माफिया के अलावा सरकारी जमीनों (Government Land) पर कब्जा करने वालों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई करवाई। पूरे प्रदेश में भूमाफिया के खिलाफ 779 प्रकरण दर्ज होने की जानकारी अधिकारियों ने दी। इसमें इंदौर जिला (Indore District) अव्वल रहा। 76 प्रकरण नवम्बर-दिसम्बर के महीने में दर्ज करवाए गए और 135 करोड़ की सरकारी जमीन मुक्त भी करवाई। इतना ही नहीं, नशे के कारोबारी, मिलावटखोर और अन्य के अवैध निर्माणों को भी तुड़वाया गया। अभी महिला उत्पीडऩ के एक चर्चित मामले में भी सेक्स एडिक्ट आरोपी का मांगलिया स्थित फार्म हाउस कलेक्टर ने जमींदोज करवाया। इसी तरह 33 प्रकरण अवैध खनीज में भी किए और 12 लाख से अधिक का जुर्माना आरोपित किया।


4 हजार जिलाबदर, तो 638 रासुका में निरूद्ध
विभिन्न आपराधिक प्रकरण (Criminal Case) में कितने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई हुई उसकी भी समीक्षा मुख्यमंत्री ने की। कानून व्यवस्था (Law and Order) पर ही अधिक फोकस रहा। 24 हजार से अधिक आरोपी हत्या, लूट, डकैती व अन्य गंभीर अपराधों में गिरफ्तार किए गए, तो लगभग 4 हजार को जिलाबदर किया गया और 638 रासुका में निरूद्ध हुए। आम्र्स के तहत 13233, जुआ एक्ट में 32 हजार से अधिक प्रकरण बने। वहीं 303 को आजीवन कारवास और 3 को मृत्युदंड की सजा भी मिली।


सहारा इंडिया के 766 निवेशकों को दिलवाए साढ़े 3 करोड़
चिटफंड कम्पनियों (Chit fund companies) के खिलाफ भी कार्रवाई के निर्देश मुख्यमंत्री लगातार देते रहे हैं। इंदौर में सहारा इंडिया (Sahara India) के 766 निवेशकों को लगभग साढ़े 3 करोड़ रुपए की राशि प्रशासन ने वापस दिलवाई है। वहीं उसके पूर्व भी कई अन्य चिटफंड कम्पनियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। पूरे प्रदेश में सालभर में 152 करोड़ की राशि 46 हजार से अधिक निवेशकों को वापस दिलवाई गई और बीते दो माह में ही चिटफंड कम्पनियों से जुड़े 62 अपराध पंजीबद्ध हुए और 24 आरोपियों की गिरफ्तारी भी की गई।

Share:

Next Post

100 फीसदी से ज्यादा बढ़ गए दहेज और यौन महिला अपराध

Fri Jan 21 , 2022
बलात्कार के 24, तो मानव तस्करी में 35 फीसदी की बढ़ोतरी सालभर में हो गई, अपहरण अवश्य घटे इंदौर। महिला अपराधों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश मुख्यमंत्री ने कान्फ्रेंस के दौरान दिए। वहीं ऑपरेशन मुस्कान की जानकारी भी ली, जिसमें नाबालिग, अपहृत और गुमशुदा बालिकाओं को खोजा जाता है। महिला अपराधों के मामले में […]