जीवनशैली धर्म-ज्‍योतिष

Health Tips: बैड कॉलेस्ट्रॉल बढ़ने से स्किन पर नजर आने लगते हैं 5 लक्षण

नई दिल्‍ली (New Delhi) हाई कोलस्‍ट्रॉल (high cholesterol) की वजह से गंभीर और जानलेवा बीमारियां हो सकती हैं. इसके कारण हार्ट से जुड़ी परेशानियां, हार्ट अटैक, हार्ट स्‍ट्रोक (heart stroke) जैसी खतरनाक स्थिति बन सकती है, जिससे जान से हाथ धोना पड़ सकता है. यह एक साइलेंट किलर की तरह शरीर में प्रवेश करता है जिसे अगर आप समय रहते पहचान लें और मेडिकेशन शुरू कर दें तो खतरे को टाला जा सकता है.

हेल्‍थलाइन के मुताबिक, वैसे तो कोलेस्‍ट्रॉल को लाइफस्‍टाइल में बदलाव लाकर आसानी से ठीक किया जा सकता है लेकिन इसके लक्षण अक्‍सर डॉक्‍टरी जांच के बाद ही पता चलते हैं. अगर आप सतर्क रहें और स्किन पर आ रहे कुछ बदलाव पर नजर रखें तो इन लक्षणों की मदद से आप गंभीर समस्‍या को टाल सकते हैं.



कई बार जब कोलेस्‍ट्रॉल ब्‍लडस्‍ट्रीम में बहुत अधिक सर्कुलेट करने लगता है तो स्किन के नीचे फैट डिपॉजिट करने लगता है जिससे फैट से भरे पीले और ऑरेंज रंग के दाने स्किन पर नजर आने लगते हैं.

इसके अलावा, कोलेस्‍ट्रॉल अधिक हो जाने की वजह से स्किन पर मौजूद छोटी-छोटी ब्‍लड वेसल्‍स यानी कैपिलरीज में ब्‍लॉकेज करने लगता है और स्किन में ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई अच्‍छी तरह नहीं हो पाती. इस वजह से स्किन की ऊपरी सतह का रंग बदलने लगता है. इसे सोरायसिस भी कहा जाता है.

हाई कोलेस्‍ट्रॉल की वजह से कई बार बड़ी परेशानियां भी हो सकती हैं जिस स्थिति को कोलेस्‍ट्रॉल एम्‍बोलिज्‍म भी कहते हैं. इसकी वजह से कोलेस्‍ट्रॉल का क्रिस्‍टल टूटकर वेन्‍स में फंस जाता है जिससे नस और धमनियों में ब्‍लॉकेज आ जाता है और स्किन में अल्‍सर जैसी समस्‍या हो जाती है.

इसकी वजह से पैरों में अल्‍सर, स्किन डिस्‍कलरेशन, नीले या पर्पल रंग के अंगूठे हो जाना जैसे लक्षण दिखने लगते हैं. ऐसे लक्षण अगर आपके स्किन पर भी दिख रहे हैं तो आप तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें और लिपिड प्रोफाइलिंग कराएं.

Share:

Next Post

FasTag रिचार्ज के लिए गूगल सर्च करना पड़ सकता है महंगा

Mon Apr 8 , 2024
नई दिल्ली (New Delhi)। आज तमाम गाड़ियों में लोग फास्टैग (FasTag) का इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसे में फास्टैग (FasTag) को लेकर स्कैम में काफी इजाफा हो रहा है। वैसे भी भारत (India) में जिस चीज का अधिक इस्तेमाल होने लगता है या चर्चा होने लगती है उसके नाम पर स्कैम होने लगता है। पिछले […]