इंदौर न्यूज़ (Indore News)

55 करोड़ की अमिट स्याही लगेगी मतदाताओं की उंगलियों पर

  • इंदौर सहित मध्यप्रदेश के लिए डेढ़ लाख से अधिक बोतलें आईं, आज ७८ मास्टर ट्रेनरों को होलकर कॉलेज में देंगे प्रशिक्षण

इंदौर। लोकसभा चुनाव में इस बार 96.8 करोड़ मतदाता पूरे देश में हैं, जिनमें 49.7 करोड़ पुरुष और 47.1 करोड़ महिला मतदाताओं के अलावा 48 हजार से ज्यादा थर्ड जेंडर मतदाता हैं। इनकी ऊंगलियों पर लगने वाली अमिट स्याही की लागत लगभग 55 करोड़ रुपए आई है। इंदौर सहित मध्यप्रदेश के लिए भी डेढ़ लाख से अधिक बोतल प्राप्त हुई हैं। यह स्याही मैसूर पेंट एंड वॉर्निंश लिमिटेड द्वारा बनाई जाती है और सभी राज्यों के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारियों द्वारा जो मतदान सामग्री की मांग की जाती है। उसमें अन्य सामग्रियों के साथ-साथ अमिट स्याही की बोतल भी दी जाती हैं।


1962 से लेकर अभी तक हर चुनाव में अमिट स्याही का इस्तेमाल किया जाता है। वोट देते वक्त मतदाता की उंगली पर यह स्याही लगाई जाती है, ताकि पता चल सके कि उसने वोट दिया है और फर्जी मतदान को भी इस स्याही के जरिए रोका जाता है। हालांकि कई बार आरोप लगते हैं कि स्याही तुरंत मिट जाती है। हालांकि उसकी गुणवत्ता में विगत वर्षों में वृद्धि भी की गई है। अभी लोकसभा चुनाव के लिए लगभग 55 करोड़ रुपए की अमिट स्याही इस्तेमाल होगी, जिसके लिए साढ़े 26 लाख से अधिक बोतलें मैसूर पेंट एंड वॉर्निश लिमिटेड कम्पनी से आयोग ने तैयार करवाई हैं, जिसमें से 1.52 लाख बोतलें मध्यप्रदेश को मिली हैं, जिसकी कीमत लगभग सवा 3 करोड़ रुपए होती है। मध्यप्रदेश में 5 करोड़ 63 लाख मतदाता 29 सीटों पर हैं, जिसमें इंदौर भी शामिल है, जहां 27 लाख से अधिक मतदाता हैं।

हालांकि 70 से 75 फीसदी ही इनमें से मतदान करेंगे, जिनकी ऊंगलियों पर यह अमिट स्याही लगेगी, जो हफ्ते-पन्द्रह दिन से लेकर महीनेभर तक नहीं मिटती है। दूसरी तरफ आज होलकर साइंस कॉलेज में चुनावी कार्य में लगने वाले मास्टर ट्रेनर का प्रशिक्षण रखा गया है। अभी तीन दिन से लगातार सरकारी अवकाश भी रहा, तो दूसरी तरफ निर्वाचन से जुड़ी गतिविधियां जारी हैं। खासकर आचार संहिता के उल्लंघन से लेकर स्टेडियम में भी तैयारियां की जा रही हैं, जहां पर चुनाव से जुड़ी महत्वपूर्ण प्रक्रियाएं की जाएंगी। मतदान दलों को चुनाव सामग्री का वितरण भी स्टेडियम से ही होगा और फिर मतदान पश्चात सामग्री को जमा कर स्ट्रॉन्ग रूम में कैद कर देंगे, जहां पर सीसीटीवी कैमरों के साथ कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रहेगी और फिर 4 जून को सुबह ही स्ट्रॉन्ग रूम खोला जएगा, जिस दिन मतदान होना है। मध्यप्रदेश में इस बार चार चरणों में आयोग चुनाव करवा रहा है।

Share:

Next Post

शत-प्रतिशत प्लेसमेंट देने वाले वैष्णव पॉलिटेक्निक में एक साल से नहीं मिला वेतन

Fri Apr 12 , 2024
इंदौर। वैष्णव पॉलिटेक्निक कॉलेज की स्थापना के तकरीबन 66 वर्ष होने जा रहे हैं। कॉलेज में 80 फीसदी से ज्यादा प्लेसमेंट बीते तीन महीने में हो चुका है और कंपनियों की डिमांड लगातार बनी हुई है, लेकिन ऐसे संस्थान के शिक्षक और कर्मचारियों को सालभर से वेतन के लाले पड़े हुए हैं। पश्चिम क्षेत्र स्थित […]