देश विदेश

भारत ने की उत्तरी कोरिया की मदद

भेजी 10 लाख डॉलर की मेडिकल मदद
नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के बीच भारत दूसरे मुल्कों की संभव सहायता से पीछे नहीं हट रहा है। वह चाहे दुश्मन देश के करीबी ही क्यों न हों। अब हमारे देश ने नॉर्थ कोरिया को 10 लाख डॉलर की मेडिकल सहायता भेजी है। ऐसा वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन से मिले अनुरोध के बाद किया गया है। विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी। बता दें कि नॉर्थ कोरिया चीन का करीबी है।
मंत्रालय ने कहा कि भारत, उत्तर कोरिया में मेडिकल उपकरणों/सामग्री की कमी और वहां के हालात के प्रति संवेदनशील है और उसने टीबी की दवा के रूप में 10 लाख डॉलर की मानवीय सहायता प्रदान करने का फैसला लिया। मंत्रालय ने कहा कि यह सहायता उत्तर कोरिया में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा चलाए जा रहे क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत होगा। दवाओं की खेप उत्तर कोरिया में भारत के राजदूत अतुल मल्हारी ने डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में देश के अधिकारियों को सौंपी।
खुद से जुड़ी चीजों को सीक्रेट रखने में सबसे आगे रहने वाला देश नॉर्थ कोरिया अब तक दावा करता रहा है कि उसके यहां कोरोना वायरस का एक भी सिंगल मामला नहीं है। हालांकि, उसके दावे पर पूरी तरह यकीन करना मुश्किल है। पिछले दिनों ही खबर आई थी कि वहां मास्क नहीं पहनने पर तीन महीने की मजदूरी की सजा दी जा रही है।

Next Post

केंद्र ने असम, बिहार, बंगाल, सहित नौ राज्यों को कोविड जांच तेज करने को कहा

Sat Jul 25 , 2020
नयी दिल्ली । केंद्र सरकार ने असम, बिहार, तेलंगाना और ओडिशा सहित नौ राज्यों को सलाह दी कि वे जांच में तेजी लाएं और निरूद्ध क्षेत्रों पर विशेष ध्यान केंद्रित करें, निषेध योजना को कड़ाई से लागू करें, स्वास्थ्य ढांचा बढ़ाएं और कोविड-19 मामलों के प्रभावी क्लीनिकल प्रबंधन सुनिश्चित करें। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, कोविड-19 […]