विदेश

इजरायल ने दी हमास को तगड़ी चोट, कराहने का भी नहीं मिलेगा मौका; जानें कैसे?

यरुशलम: इजरायल पर हमला करने वाले आतंकी संगठन हमास के अब बुरे दिन शुरू हो गए हैं. आसमान से बमबारी करने के बाद इजरायल ने अब जमीनी अटैक करना शुरू कर दिया है और हमास को ताबड़तोड़ चोट दे रहा है. जिस सीक्रेट सुरंगों के दम पर हमास कूद रहा था, अब इजरायल उसे ही तबाह कर रहा है. दरअसल, आईडीएफ यानी इजराइली सेना ने गुरुवार को दावा किया कि उसने गाजा में 130 हमास सुरंगों के प्रवेश द्वारों को नष्ट कर दिया है. इजरायल के इस दावे के बाद अब हमास के आतंकी सुरंगों में छटपटा रहे होंगे.

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर एक पोस्ट में इजरायली सेना ने कहा, ‘आईडीएफ यानी इजरायली सेना के लड़ाकू इंजीनियर वर्तमान में गाजा में सुरंगों सहित हमास के आतंकवादी बुनियादी ढांचे को नष्ट करने का काम कर रहे हैं. सुरंगों के अंदर पानी और ऑक्सीजन भंडारण की खोज से संकेत मिलता है कि हमास लंबे समय तक भूमिगत रहने की तैयारी कर रहा है. युद्ध की शुरुआत के बाद से सुरंग के 130 प्रवेश द्वार नष्ट कर दिए गए हैं.’


बुधवार देर रात एक पूर्व बयान में आईडीएफ ने कहा कि उसने उत्तरी गाजा के बेत हनौन क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र राहत और कार्य एजेंसी प्रायोजित स्कूल के पास हमास सुरंग को नष्ट कर दिया. इसने एक वीडियो भी साझा किया जिसमें कथित तौर पर ड्रोन कैमरे के माध्यम से ‘स्कूल के पास’ नष्ट किए गए सुरंग द्वार को दिखाया गया है. आईडीएफ ने कहा कि गाजा पट्टी में जमीनी अभियान के विस्तार के साथ, सैनिक हमास के आतंकवादी ढांचे को विफल कर रहे हैं.

गाजा के नीचे सुरंगों के जरिए मिस्र से माल की तस्करी की जाती है. लेकिन आईडीएफ के अनुसार, एक दूसरा भूमिगत नेटवर्क भी मौजूद है जिसे इजरायली सेना बोलचाल की भाषा में ‘गाजा मेट्रो’ कहती है. सीएनएन ने बताया, यह सुरंगों की एक विशाल भूलभुलैया है, जो कुछ लोगों के अनुसार कई किलोमीटर भूमिगत है, जिसका उपयोग लोगों और सामानों के परिवहन; रॉकेट और गोला बारूद भंडार को संग्रहीत करने के लिए किया जाता है. हमास का कमांड सेंटर भी यहीं है, जो आईडीएफ के विमानों और निगरानी ड्रोनों की नज़रों से दूर है.

Share:

Next Post

बंबई बाजार कांड को आज तक भुना रही है भाजपा, 1993 से लगातार गौड़ परिवार का कब्जा

Thu Nov 9 , 2023
इंदौर। संजीव मालवीय। इंदौर (Indore) की चार नंबर विधानसभा को यूं ही भाजपा की अयोध्या नहीं कहा जाता, लेकिन हकीकत यह है कि इस क्षेत्र में हुए बंबई बाजार कांड को भाजपा ने ऐसा रंग दिया कि यह इलाका दो वर्गों में बंट गया। 1990 में कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने यह सीट नंदलाल माटा […]